आजमगढ़। पुलिस रिकार्ड में हिस्ट्रीशीटर और 50 हजार के इनामी रह चुके जहानागंज ब्लॉक प्रमुख संजय यादव की एमएलसी विशाल सिंह चंचल से अदावत किसी से छिपी नहीं है। एमएलसी ने ब्लाक प्रमुख के खिलाफ रंगदारी का मुकदमा ही नहीं कायम कराया था बल्कि धमकी का आडियो भी खासा वायरल हुआ था। दोनों के बीच चंल रही ‘जंग’ में संजय की पत्नी किरन यादव कूद पड़ी है। सोमवार को किरन के नेतृत्व में संजय यादव के समर्थको ने डीएम और एसपी कार्यालय पर प्रदर्शन किया। साफ आरोप था कि एमएलसी के दबाव में इनकाउंटर का साजिश रचने के साथ फर्जी मुकदमे लादे जा रहे हैं और कोर्ट में कार्रवाई की खातिर गलत आरोप पत्र प्रेषित किये जा रहे हैं। आला अफसरों को ज्ञापन देते हुए मुकदमा वापसी के संग चंचल के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गयी।

ताजा घटनाक्रम के बाद बनी रणनीति

गौरतलब है कि शुक्रवार को जहानागंज थाने में संजय यादव समेत कई लोगों के खिलाफ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज हुआ है। इसके बाद रणनीति के संजय यादव के समर्थक मुखर हो गये जिनकी अगुवाई किरन ने संभाली है। डीएम कार्यालय पर किरन यादव और समर्थकों ने आरोप लगाया कि दरअसल संजय मूलरूप से बहरियाबाद (गाजीपुर) के बनकटा गांव के निवासी हैं और एक ही जिले का होने के नाते एमएलसी रंजिश रखते हैं। उनके चुनाव में भी संजय यादव अपने भाई ओंकार यादव के साथ गाजीपुर में कैंपकर सपा का प्रचार किया था जबकि चंचल अपने लिए प्रचार करने का दबाव बना रहे थे। इसी के चलते वह बौखलाये हैं और संजय जेल में रहे या बाहर उनके मारने की साजिश रच रहे हैं। इसकी खातिर एमएलसी एसपी आजमगढ़, प्रमुख सचिव गृह, डीजीपी पर भी मुठभेड़ में मारने का दबाव बना रहे हैं।

admin

No Comments

Leave a Comment