सोनिया की बैठक में नहीं गयी मायावती तो कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने की यह टिप्पणी, योगी पर भी साधा निशाना

वाराणसी। पिछले दिनों कांग्रेस की महासचिव प्रियंका वाड्रा पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी आयी थी सीएए का विरोध करने वाले ‘पीड़ितों’ से मुलाकात करने लेकिन पार्टी की गुटबाजी सतह पर आने से खासी किरकिरी हुई। बहरहाल ‘डैमेज कंट्रोल’ के लिए सोमवार को आये कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय सिंह लल्लू खासे तेवर में दिखे। उन्होंने बसपा सुप्रीमों मायावती को भाजपा की ‘एजेंट’ तक करार दिया। दरअसल सीएए-एनसीआर के विरोध के लिए सोनिया गांधी ने जो बैठक बुलायी थी उसमें बसपा ने शिरकत करने से इनकार कर दिया था। इससे भड़के लल्लू का कहना था कि बसपा और भाजपा एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं।

कमिश्नर प्रणाली पर भी उठाये सवाल

भले ही उत्तर प्रदेश में राजनैतिक इच्छाशक्ति की कमी के चलते पुलिस कमिश्मर प्रणाली न लागू हो सकी हो लेकिन इसके बाबत भी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष ने अपनी राय बता दी। उनका मानना था कि यूपी में अपराध चरम पर है और कमिश्नरी प्रणाली से प्रदेश की व्यवस्था नहीं सुधरेगी। उन्होंने प्रदेश सरकार सभी मोर्चों पर विफल करार दिया है। आरोप लगाया कि जिस सरकार में अपराधियों का बोलबाला हो और हत्या-डकैती इसकी पहचान बन हो वहां कोई भी प्रणाली काम नहीं कर सकती है। सीएम योगी के बयान का वास्ता देते हुए कहा कि बार-बार सदन और मंचों पर कहते हैं कि अपराधी जेल में है या प्रदेश छोड़ कर भाग गए हैं। बावजूद इसके रोजाना होने वाली घटनाएं उनके दावे को उजागर करने के लिए पर्याप्त हंै।

Related posts