‘फरार’ प्रत्याशी की तरफ से भरते हुए ‘हुंकार’ मायावती-अखिलेश ने भाजपा को ठहराया ‘जिम्मेदार’

मऊ। मामला दुष्कर्म सरीखी संगीन वारदात का है। हाइकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक से किसी तरह की राहत नहीं मिली। बावजूद इसके माहौल चुनाव का है और आरोपित कोई और नहीं बल्कि अपना प्रत्याशी है लिहाजा बसपा सुप्रीमो मायावती अपने साथ सपा के मुखिया अखिलेश को लेकर आयी। मायावती ने तो समूचे घटनाक्रम के लिए भाजपा को ‘जिम्मेदार’ ठहराते हुए अतुल राय को बेकसूर करार दिया। घोसी लोकसभा प्रत्याशी का बचाव करने के क्रम में मायावती का कहना था कि भाजपा ने गठबंधन के उम्मीदवार को गलत तरीके से फंसाया है, जबकि हमारी सरकार महिलाओं को इज्जत करती है। सुर मिलाते हुए अखिलेश ने भी कहा कि भाजपा ने हार के डर से घबराकर गठबंधन प्रत्याशी पर झूठे मुकदमे में फंसा दिया है, जिसे पुलिस खोज रही है। इस सरकार ने सभी को धोखा दिया है। उन्होंने घोसी लोकसभा सभा प्रत्याशी को जिताने के लिए जनता से अपील भी की।

बछडे से लेकर बेरोजगारी तक पर प्रहार

मायावती ने कहा कि भाजपा सरकार ने आवारा पशुओं को छोड़ रखा है जिससे किसानों का फसल बर्बाद कर दी है। इनके झूठे और जुमलेबाजी के दम पर जनता व किसान वोट करने वाले नहीं है। भाजपा ने सिर्फ पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाया है। जो चुनावी वादे किए थे उसको पूरा नहीं किया और न ही आरक्षण का कोटा पूरा हुआ। गरीब, दलित, आदिवासी व मुस्लिमों का कोई विकास नहीं किया। अपर कास्ट में गरीब लोगों की हालत भी अच्छी नही है। नोटबंदी और जीएसटी की वजह से देश गरीबी और बेरोजगारी बढ़ी है। देश की अर्थव्यवस्था पर बुरा प्रभाव पड़ा है। ऐसे हालात में चुनाव में कांग्रेस, बीजेपी और अन्य विपक्षी पार्टियों को रोकना है। विरोधी पार्टियां शाम, दाम दण्ड का प्रयोग कर रही है इनसे सावधान रहें, वादे हवा हवाई है। चुनाव को खत्म होने के बाद दरकिनार कर देंगी।

सिलेंडर जो दिये भरवा नहीं पा रहे लोग

अखिलेश यादव ने समाजवादी साथियों से अपील है कि वह चुनाव में मदद करे। साथ ही विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। कहा मोदी ने कहा था कि अच्छे दिन आएंगे, किसानों को भी भरोसा दिलाया था कि लागत का डेढ़ गुना मुनाफा होगा। दो करोड़ लोगों को नौकरी देने का वादा किया था नही दे पाए। इतना ही नहीं जो गैस सिलेंडर दिया है उसको माताएं बहने गैस नहीं भरवा पा रही है और नोटबन्दी में फायदा लेने वाले देश छोड़कर विदेश चले गये। जब देश से कारोबार करने वाले चले जायेंगे तो देश कैसे तरक्की करेगा, नौकरी मांगने वाले युवाओं से कहा पकौड़े बनाने लगे। उन्होंने कहा कि देश के पीएम चाय के नाम पर आये और चौकीदार बन गए और उनके सांसद व विधायक भी बाबा की ठोको नीति के बीच जूते मारने का काम किया है। कहा कि कानून व्यवस्था के नाम पर कहते जाओ ठोक दो, बाबा ने कहा ठोक दो जनता को ठोक दो। बीजेपी की सरकार में गरीबो पर 30 लाख मुकदमा दर्ज हुआ है। कभी कोई सरकार दूसरी सरकार को बदनाम नहीं किया था। लेकिन जब से बाबा की सरकार आयी तो गंगा जल से धुलवाने का काम किये थे।

Related posts