मौलाना महमूद मदनी ने दिये संकेत, देवबंंद से गिरफ्तार संदिग्धों का जमीयत लड़ेगी केस

वाराणसी। पुलवामा में सीआरपीएफ की बस पर हुए आतंकी हमले और 40 से अधिक जवानों की शहादत से समूचे देश में गम के साथ आक्रोश व्याप्त है। इस बीच यूपी एटीएस ने देवबंद के पास मदरसे के हास्टल से पकड़े गये संदिग्धों के बाबत चौंकाने वाले खुलासे किये हैं। दोनों को गिरफ्तार कर 10 दिनों की पुलिस रिमांड मंजूर हो चुकी है लेकिन उनके समर्थन में भी स्वर उठने लगे हैं। पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी पहुंचे जमीयत उलेमा ए हिंद के महासचिव मौलाना महमूद मदनी ने रविवार को मीडिया से बातचीत के दौरान एक तरफ पुलवामा हमले की निंदा के साथ कश्मीर में भारत के रूख का समर्थन किया वहीं संदिग्धों की तरफदारी की। अलबत्ता कश्मीर पर पीएम के रुख की खुल कर प्रशंसा की।

कोर्ट से सजा मिलने तक निर्दोष

मौलाना महमूद मदानी ने समूचे प्रकरण को मीडिया ट्रायल कहते हुए जोर दिया कि देश में कानून का राज है। महज किसी खास एजेंसी या पुलिस के कहने भर से कोई आतंकी नहीं हो जाता जब तक इसके पुख्ता प्रमाण न हों। जब तक किसी अदालत से सजा नहीं मिलती आरोपित ही माना जा सकता है न कि आतंकी। वैसे भी यह कोई पहला मामला नहीं है। जमीयत ने तो इससे पहले भी ऐसे युवाओ के केस लड़े हैं, और उन्हें कोर्ट से बाइज्जत रिहा कराया है। अभी तक इसके लिए किसी ने पहल नहीं की है लेकिन देवबंद के पास से गिरफ्तार दोनों युवाओं के मामले में आवश्यकता पड़ने पर जमीयत उनका केस कोर्ट में लड़ेगा।

शताब्दी समारोह से जुड़ा है कार्यक्रम

मौलाना मदानी जमीअत उलेमा ए हिंद के 100 वर्ष पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने वाराणसी पहुंचे थे। जमीयत उलेमा ए हिंद के तत्वधान में जनाब ओबेदुल्ला जनरल सेक्रेटरी पूर्वी उत्तर प्रदेश की देखरेख में जमीयत उलेमा यह हिंद के 100 वर्ष पूरे होने पर मोहदसिर जलील अब्दुल मआसिर मौलाना हबीबुर्रहमान आजमी की याद में सेमिनार का आयोजन आरबी पैलेस निकट चंद्रा चौराहा-नानूपुर (सारनाथ) आयोजित था। रविवार 10 बजे से कुरान की तिलावत पार्क से प्रारंभ हुआ। कार्यक्रम का संचालन मसूद अहमद आजमी एवं अध्यक्षता कारी उस्मान मंसूरपुरी द्वारा की जा रही है। मुख्य वक्ता के रूप में मौलाना महमूद मदनी मुफ्ती अब्दुल बातिन नोमानी, मौलाना मदनी उल हक कानपुरी के अतिरिक्त हजारों लोगों ने इसमें शिरकत की।

Related posts