आजमगढ़। निकाय चुनाव की तिथियों की घोषणा अभी नहीं हुई है लेकिन इसे लेकर संभावित प्रत्याशियों ने अपनी तैयारी सुरू कर दी है। सर्वाधिक मांग शराब की होती है जिसकी खातिर अवैध शराब का कारोबार करने वालों को आर्डर दिये जा रहे हैं। एसटीएफ ने बुधवार को ब्रिंदा बाजार (गंभीरपुर) में अवैध रूप से चल रही शराब की फैक्ट्री पर इंस्पेक्टर पुनीत परिहार के नेतृत्व में टीम ने छापेमारी की तो ऐसे चौंकाने वाले खुलासे हुए। पश्चिम उत्तर प्रदेश से बड़े पैमाने पर अति तीव्रता के अल्कोहल मात्रा वाली स्प्रिट से यहां नकली श्राब तैयार की जाती थी। प्रचिलित ब्रांच की बोतल से लेकर रैपर और आबकारी विभाग के फर्जी होलोग्राम कर बरामद हुए हैं। मौके से राजीव सिंह के अलावा उसके भाई अवनीश कुमार और मैनपुरी निवासी आशाराम यादव को गिरफ्तार किया गया है। मौके से 4400 लीटर स्प्रिट मिली है जिससे आठ गुनी मात्रा में शराब होनी थी।
फैक्ट्री के नाम पर सप्लाई,बनती शराब
समूचे गोरखधंधे की कलई बरामद कागजात से हुए जिसमें गाजियाबाद से मीरजापुर की एक फैक्ट्री के लिए स्प्रिट की सप्लाई हुई थी। फैक्ट्री न जाकर यह अवैध शराब के कारोबारियों तक जा पहुंची। यही नहीं आरम्भिक पूछताछ में पता चला कि गिरफ्तार अवनीश कुमार रोडवेज का कर्मचारी है जो अपने साथियों के चलते सरकारी बस पर पेटियां लदवा कर सप्लाई कराता था। कई जिलों को यहां से अवैध शराब की सप्लाई की जा रही थी। चुनाव के चलते कई चर्चित चेहरों ने बड़ा आर्डर दे रखा था जिनको सप्लाई देने के लिए ्मिनी ट्रक भर स्प्रिट मंगायी थी।

75
अवैध शराब से हो चुकी है मौते
सूबे में भाजपा की सरकार बनने के बाद अवैध शराब से सामूहिक मौते आजमगढ़ में हुई थी जिसमें दो दर्जन से अधिक की जान गयी। इस मामले में अवैश शराब के कारोबारी मुलायम यादव और उसके गुर्गो के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की गयी थी। पिछले दिनों इनकी तीन करोड़ की सम्पति भी कुर्क की गयी है। बताया जाता है कि मुलायम के बाद जिस गिरोह ने स्थानीय पुलिस से साठगांठ कर नये सिरे से इस कारोबार पर कब्जा करने की योजना बनायी वह पहले छोटा कारोबारी था। पुराने खलीफा ने जेल से मुखबिरी कर उसकी योजना ध्वस्त कर दी।

admin

No Comments

Leave a Comment