बलिया। प्रदेश सरकार ने बोर्ड परीक्षा में नकल रोकने के लिए सीसी कैमरे लगवाये तो इसकी भी तोड़ निकाल ली गयी। यह बात दीगर है कि खेल लंबे समय तक नहीं चला और हाईस्कूल के गणित के पेपर के दौरान एसटीएफ ने छापेमारी कर भंडाफोड कर दिया। एसटीएफ ने बालेश्वर इण्टर कालेज शाह मुहम्मदपुर रसड़ा के प्रिंसपल समेत छह लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें पांच कापी को हल करने वाले थे। रसडा कोतवाली में आईपीसी की धारा 409 तथा 4/5/7/8/10 उप्र सार्वजनिक परीक्षा (अनुचित साधनों का निवारण) अधिनियम 1998 पंजीकृत कराकर आरोपितों को दाखिल किया गया है। मामले की विवेचना स्थानीय पुलिस को सौंपी गयी है।

20 हजार में हुआ था सौदा, पांच हजार मिलते साल्वर को

पूछताछ में पता चला कि कालेज का प्रबन्धक सत्य नारायण यादव और प्रधानाचार्य रामजीत यादव रिश्ते में बहनोई-साले हैं। सामूहिक नकल कराने के लिए इन्होंने सौदा किया था। इस नकल के लिए प्रति छात्र 20 हजार रुपए की वसूली की गयी थी जिसमें प्रत्येक साल्वर को 5 हजार रुपए दिये जाने थे। कालेज के सभी कक्षोंमें सीसीटीवी लगा दी गयी थी अत: वहां पर साल्वरों को ले जाना संभव नहीं था। इसका विकल्प सौ मीटर दूर प्रिंसपल का आवास बना था जहां साल्व करके कापियों का कवर पृृष्ठ सादा छोड़ दिया जाता था। इन कापी को जमा कराते समय स्कूल में छात्र का विवरण कवर पृष्ठ परअलग से भर दिया जाना था।

सटीक सूचना पर हुई कार्रवाई

एसटीएफ को सामूहिक नकल की सूचना मिली थी जिसके बाद डिप्टी एसपी विनोद सिंह के नेतृत्व में सूचना संकलित की गयी। इंस्पेक्टर पुनीत परिहार ने अधीनस्थों के संग छापेमारी में कालेज के प्रिंसपल रामजीत यादव के संग साल्वर जगदीश यादव, शैलेन्द्र यादव, सत्येन्द्र यादव,जितेन्द्र यादव और देवानन्द यादव को गिरफ्तार किया है। एसटीएफ को 14 लिखी तथा 19 सादी कापियों के अलावा एक गणित का प्रश्नपत्र मिला था। सामूहिक नकल का खुलासा होने पर डीएम सुरेंद्र विक्रम, डीआईओएस अमरनाथ भी मौके पर पहुंचे।

admin

No Comments

Leave a Comment