वाराणसी। बीएचयू में छात्राओं पर हुए लाठीचार्ज के मामले में एक और जांच सक्रिय हो गई है। न्यायिक जांच और महिला आयोग की टीम के बाद मंगलवार को डीएम के आदेश पर गठित मजिस्ट्रेट जांच के लिए पहुंचे एडीएम (प्रशासन) मुनींद्र नाथ उपाध्याय बीएचयू पहुंचें। इस दौरान उन्होंने एलडी गेस्ट हाउस में छात्र-छात्राओं से बात की और पूरी घटनाक्रम को समझा।

आठ घंटे तक दर्ज हुआ बयान
लक्ष्मण दास अतिथि गृह में बने अस्थाई कार्यालय में करीब आठ घंटे चली सुनवाई के दौरान जांच अधिकारी के साथ खास तौर पर महिला एसडीएम ईशा दुहन और महिला कर्मचारी मौजूद रहीं। एडीएम ने छात्र और छात्राओं से सिलसिलेवार घटनाक्रम को जाना। इस दौरान उन्होंने विश्वविद्यालय के कुछ महिला टीचरों से भी बात की। बीएचयू में छात्रा संग छेड़खानी को लेकर 40 घंटे तक धरना देने वाली छात्राओं पर 23 सितम्बर की आधी रात लाठीचार्ज की गूंज लखनऊ से दिल्ली तक सुनी गई थी। पत्रकारों पर भी लाठियां चली थीं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी मंडल के कमिश्नर से प्रारंभिक रिपोर्ट मंगाने के बाद मजिस्ट्रेट जांच कराने का आदेश दिया था। सुबह 11 बजे कार्रवाई शुरू होते ही छात्राएं और छात्र बयान देने के लिए पहुंचते रहे। संख्या ज्यादा होने के चलते दोपहर तीन बजे तक निर्धारित समय को बढ़ाना पड़ा। शाम छह बजे तक बयान रिकार्ड किए गए। जांच अधिकारी ने बताया कि 26 छात्र-छात्राओं ने बयान दिया है। अब बयान-साक्ष्य के साथ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की रिपोर्ट का अध्ययन कर यह तय किया जाएगा कि और साक्ष्य एकत्र करने की जरूरत है या नहीं। इसके बाद विस्तृत रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी लेकिन इसका समय तय नहीं है।

admin

No Comments

Leave a Comment