वाराणसी। किसी जमाने में पूर्वांचल के शराब के कारोबार पर एकाधिकार रखने वाले ‘लिकर किंग’ के नाम से चर्चित चंदौली के पूर्व सांसद जवाहरलाल जायसवाल की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। पिछले दिनों पड़रौना की चीनी मिल के बकाये के मामले में रामाडा होटल और आवास के कुर्की की नौबत आ गयी थी तो शुक्रवार को महराजगंज जनपद की चीनी मिल के 22 करोड़ 92 लाख रुपये बकाये के मामले में राजस्व विभाग की टीम आ धमकी। सदर तहसीलदार ने स्वीकार किया कि इस मामले में जवाहरलाल जायसवाल के खिलाफ आरसी जारी होने के बाद उनकी तलाश में रमाडा होटल व लालपुर समेत दो अन्य आवासों पर छापेमारी की गयी। पूर्व सांसद मिले नहीं और उनके लखनऊ होने की जानकारी मिलने पर टीम वहां के लिए रवाना हो गयी है।

बकाया न चुकता करने पर हो सकती है कुर्की

सदर तहसीलदार का कहना था कि आरसी जारी होने के बाद पहले तो तलाश की जा रही है और जवाहरलाल जायसवाल के मिलने की दशा में कानून के प्राविधानों के तहत उनकी चल-अचल सम्पति कुर्क की जा सकती है। पिछले कुछ समय से एक के बाद एक कर पुराने मामले उभरते जा रहे हैं जिससे पूर्व सांसद खासे दबाव में हैं। माना जा रहा है कि भाजपा के निशाने पर वह हैं। उधर बकाये को लेकर बैंकों की तरफ से भी वसूली के लिए कागजी कार्रवाई आरम्भ होने की चर्चा है।

admin

No Comments

Leave a Comment