गाजीपुर। नवली गांव में बीते दिनों दलितों और राजपूतों के बीच संघर्ष का मामला सियासी रंग लेने लगा है। बीजेपी की दो महिला विधायकों ने स्थानीय पुलिस प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। यही नहीं अब इसमें अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा भी कूद पड़ी है। क्षत्रिय महासभा का एक दल एसपी सोमेन वर्मा से मिला और उसने लापरवाह पुलिस अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

सीओ को हटाने पर अड़ा क्षत्रिय महासभा

अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के युवा जिलाध्यक्ष राजकुमार सिंह के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मण्डल गुरुवार को पुलिस अधीक्षक सोमेन वर्मा से मिलकर ग्रामसभा नवली के प्रकरण में बातचीत किया। इस मौके पर जिला अध्यक्ष राजकुमार सिंह ने कहा की ग्रामसभा नवली में हुआ जनसंघर्ष दुर्भाग्यपूर्ण है उसके उपरांत क्षेत्राधिकारी कासिमाबाद के नेतृत्व में पुलिसकर्मियों द्वारा क्षत्रिय परिवार में महिलाओं एवं बच्चों, पत्रकार बंधुओ के साथ अभद्रता गाली-गलौज मारपीट और घर के अंदर की गयी तोड़फोड़ की कार्यवाही बहुत ही शर्मशार व कायराना हरकत है जो सभ्य समाज में बर्दाश्त के काबिल नही है। क्षेत्राधिकारी कासिमाबाद के नेतृत्व में की गई कार्यवाही से क्षत्रिय समाज व सभ्य समाज काफी आहत और आक्रोशित है। क्षेत्राधिकारी कासिमाबाद के इस कृत्य को देखते हुए ग़ाज़ीपुर जनपद के अंदर किसी भी क्षेत्र कार्यभार सौंपा जाता है तो क्षत्रिय महासभा उसका जमकर विरोध करेगी।

admin

No Comments

Leave a Comment