बलिया। संकीर्तननगर (बैरिया) स्थित खपड़िया बाबा का आश्रम में सोमवार को हजारों की भड़ जुटी थी। यहां पर मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अन्तर्गत 92 जोड़ों का विवाह हो रहा था जिसमें एक मुस्लिम जोड़ा भी शामिल रहा। विवादित बयानों के चलते चर्चा में रहने वाले विधायक सुरेन्द्र सिंह अपने कुनबे के साथ आयोजन को सफल बनाने में जुटे रहे। वहां दूर-दराज से पहुँचे अतिथि भी इस पवित्र धरती पर आकर मंत्रमुग्ध होते दिखे। आश्रम के अंदर व बाहर हर जगह पुरुष-महिलाओं की भीड़ जमी रही। यह आयोजन एक भव्य मेला का स्वरूप धारण कर चुका था। भव्य आयोजन पर उत्साह से लबरेज विधायक ने कहा कि मेरे राजनीतिक जीवन ही नहीं बल्कि सम्पूर्ण जीवन का सबसे सुंदर अवसर रहा। परमात्मा हर किसी को ऐसा अवसर दे। उन्होंने आश्वस्त किया कि जल्द ही ऐसे और मौके आएंगे जिसमें इससे भी अधिक गरीब की पुत्र-पुत्रियों की शादी होंगी। सम्भवत: इतना बड़ा आयोजन होगा कि लोग जान जाएंगे कि दिल्ली में मोदी, प्रदेश में योगी तो बलिया में भी सुरेन्द्र किसी से कम नहीं है। विधायक ने कहा कि ऐसे पवित्र कार्य्रकम में अधिकारी के साथ हम सबका सहयोग भी जरूरी है। सरकार की नियति को धरातल पर उतारना हम सबका दायित्व है।

बेटी की शादी के लिए नही बनेगा कोई गुलाम

विधायक ने कहा कि एक गरीब अपनी बेटी की शादी के लिए किसी सामन्त का गुलाम बन जाता था। लेकिन धन्य हो प्रदेश के सीएम योगी, जिन्होंने इस योजना के क्रियान्वयन पर बल दिया। नतीजा आज गरीब अपनी बेटी की शादी चिन्तामुक्त होकर कर रहा है। आश्वस्त किया कि जब तक प्रदेश में सीएम योगी है और बैरिया में विधायक सुरेन्द्र हैं, किसी गरीब को अपनी शादी की चिंता करने की जरूरत नहीं। विधायक ने उन सबको धन्यवाद दिया जिन्होंने आज इस पुनीत कार्य मे बिना मांगे 20 लाख तक का सहयोग दे दिया। कई लाख के सामान व खानपान सामग्री दे दिए। उन्होंने इशारों में तंज कसते हुए कहा कि फॉर्च्यूनर व हेलीकॉप्टर से गरीबो का दिल नहीं जीता जा सकता, बल्कि गरीब की पीड़ा को समझ कर उसे दूर पड़ेगा। इसके लिए हमेशा आगे रहने की बात कही। विधायक ने खपड़िया बाबा के आश्रम पर सामुदायिक हाल व वैवाहिक भवन बनवाने की घोषणा की। कहा कि इस पवित्र आश्रम का मैं भक्त हूँ। इस आश्रम में एक ऐसे सामुदायिक हाल की जरूरत है, जहां हजार लोग एक साथ बैठ सकें। इसके अलावा करीब 25 लाख की लागत से वैवाहिक भवन बनाने की घोषणा करते हुए साल भर के उसी भवन के अंदर शादी कराने को भी कहा।

दोनों पक्षों की तरफ से दिखे विधायक

खास यह कि यहां पर किसी बेटी पक्ष की ओर से, तो कभी बेटे पक्ष की ओर से भूमिका निभाते हुए विधायक सुरेन्द्र सिंह नजर आए। उन्होंने मंच से कहा कि हर दूल्हा दुल्हन मेरे पुत्र-पुत्री हैं। उन सभी का मैं अभिभावक हूं, जिनके माता-पिता शादी करने में अक्षम हैं।

विधायक ने इस ऐतिहासिक आयोजन की समाप्ति “हरे राम हरे राम राम राम हरे, हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे” के गायन के साथ किया। इसमें सामने की भीड़ ने भी जमकर साथ दिया। तब तो ऐसा लग रहा था जैसे मानो पूरी भीड़ खपड़िया बाबा व स्वामी हरिहरानन्द महाराज की भक्ति में डूब गया हो।

बेटी की शादी के बोझ तले नहीं दबेगा कोई गरीब : सीडीओ

सीडीओ बद्रीनाथ सिंह ने कहा कि सरकार की मंशा है कि कोई गरीब अपनी बेटी की शादी के बोझ तले न दबे। इसी लिए यह योजना चलाई गई। इसमें हर जरूरी सामानों के साथ शादी की सभी रश्मों को पूरा किया जा रहा है। इसमें स्थानीय जनप्रतिनिधियों का सहयोग मिलना सराहनीय है। निश्चित ही सरकार की हर योजना यहाँ धरातल तक पहुचेगी। इस ऐतिहासिक आयोजन में जी-जान लगा देने वाले समाज कल्याण अधिकारी बब्बन मौर्य ने द्वाबावासियों से वादा किया कि विधवा, वृद्धा व विकलांग पेंशन भी आवेदकों को दो महीने के अंदर चालू करा दी जाएगी।

कभी बेटी तो कभी बेटा पक्ष की ओर से दिखे विधायक

– किसी मौके पर बेटी पक्ष की ओर से, तो कभी बेटे पक्ष की ओर से भूमिका निभाते हुए विधायक सुरेन्द्र सिंह नजर आए। उन्होंने मंच से कहा कि हर दूल्हा दुल्हन मेरे पुत्र-पुत्री हैं। उन सभी का मैं अभिभावक हूँ, जिनके माता-पिता शादी करने में अक्षम हैं। गायक संजय शिवम ने जब इस विवाह की पारम्परिक गीत को शुरू किया तो वहां मौजूद हर किसी में शादी समारोह का एक अलग उत्साह जग गया। इनामों की बारिश हो गई। पूरा परिसर हर्षोल्लास से चहक उठा। महिलाएं भी इस गीत को सुनने के बाद काफी खुश होती दिखीं। इस मौके पर सीडीओ बद्रीनाथ सिंह, सेवायोजन अधिकारी एके पांडेय, एसडीएम अनिल चतुवेर्दी, सीओ उमेश कुमार, बीडीओ बैरिया, एसओ गगनराज सिंह के अलावा भाजपा जिलाध्यक्ष विनोदशंकर दूबे, महामंत्री जयप्रकाश वर्मा आदि मौजूद थे। संचालन भाजपा के जिला उपाध्यक्ष व विधायक प्रतिनिधि अमिताभ उपाध्याय ने किया।

admin

No Comments

Leave a Comment