केशव मौर्या ने भरी हुंकार: ‘बुआ-भतीजे’ ने डेढ़ दशक में प्रदेश को किया ‘कबाड़’, भाजपा पूरी तरह राम मंदिर के साथ

मऊ। लोकसभा चुनाव में कुछ माह का समय बचा है लिहाजा नेता भी पूरी तरह इसके मोड में आ गये हैं। दोहरीघाट ब्लाक के गोंठा बाजार स्थित कृषि मंडी में शनिवार को आयोजित जनसभा में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने जहां एक तरफ विकास कार्यों की खातिर खजाने की गठरी खोली तो वहीं महागठबंधन को लेकर विपक्ष पर तीखे वार किये। अलबत्ता राम मंदिर को लेकर न सिर्फ सफाई दी बल्कि यहां तक कह डाला कि भाजपा पूरी तरह से राम मंदिर आंदोलन के साथ है। अयोध्या में बनेगा तो सिर्फ प्रभु श्रीराम का भव्य मंदिर ही बनेगा। इसके अलावा और कुछ नहीं। बाबर जैसे आक्रांता के नाम पर एक ईंट भी वहां रखने नहीं दी जायेगी।

नारों तक रहे गरीब के साथ

डिप्टी सीएम ने कहा कि आजादी के बाद से आज तक गरीबी हटाओ का नारा देने वाली पार्टियों की सरकारों ने गरीबों के लिए कुछ नहीं किया। वह तो 2014 में देश में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र में सरकार बनने के बाद गरीबों की एक-एक समस्याओं का योजनाबद्ध तरीके से हल किया जा रहा है। इसे देख कर विपक्ष में बौखलाहट है। योजनाओं से गरीबी के विरुद्ध ईमानदारी से लड़ी जा रही हमारी लड़ाई को विपक्ष बर्दाश्त नहीं कर पा रहा है। इसलिए गरीब विरोधी विपक्षी पार्टियां अब एकजुट हो रही हैं। उनका मुद्दा बस एक ही है, मोदी हटाओ। वे भले ही एकजुट हो रहे हैं पर जनता उनके साथ नहीं जुट रही। महागठबंधन को निशाने पर लेते हुए कहा कि उसमें सभी दुल्हा, सभी बराती हैं। सपा-बसपा पर टिप्पणी की, बुआ-भतीजे ने 15 सालों में पूरे प्रदेश के सिस्टम को कबाड़ा बनाकर रख दिया था। अपराध को संस्थागत रूप दे दिया था। वर्ष 2014 में केंद्र में सरकार बनने के बाद भी विवश थे, प्रदेश सरकार का कोई रचनात्मक सहयोग नहीं मिल रहा था। इस कुशासन से ऊब कर जनता ने जब भाजपा को 325 सीटों की प्रचंड बहुमत को सम्मान देते हुए विश्वास व्यक्त किया। ऐसा पहली बार हो रहा है कि प्रदेश के सभी 75 जिलों का विकास एक साथ किया जा रहा है। पूर्व की सरकारों में विकास कुछ ही जिलों तक सिमट गया था।

मंच से स्वीकृत की योजना, लगाया जयश्रीराम

डिप्टी सीएम ने जनपद में 300 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली 33 किमी लंबी 25 सड़क परियोजनाओं का शिलान्यास किया। यही नहीं पर्यावरण वन मंत्री दारा सिंह चौहान ने कोरौली अहिरानी मार्ग व रेलवे ओवर ब्रिज समेत कई मांग उप मुख्यमंत्री के सामने रखी जिसको उन्होंने तुरंत स्वीकृत करने की मंजूरी दे दी। पुराने तेवर में अते हुए मौर्य के मंच पर आते ही जय श्रीराम का उद्घोष किया गया। खास यह कि विवादित बयानों के बाद चर्चा में आये घोसी लोक सभा के सांसद हरिनारायन राजभर को बोलने का मौका नहीं मिला जिससे वह काफी मायूस दिखे। डिप्टी सीएम ने मुरादपुर में भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा के प्रदेश महामंत्री विनोद यादव के घर आयोजित मांगलिक कार्यक्रम में भी भाग लिया।

Related posts