महज इत्ती सी बात पर कत्ल सरीखी वारदात, पांच माह बाद सतीश हत्याकांड के खुलासे संग दो आरोपित गिरफ्तार

वाराणसी। पिछले साल हुई कत्ल की सनसनीखेज वारदातों में जगतगंज स्थित कमला पुस्तक भण्डार के मालिक सतीश राय की गोली मारकर हत्या थी। भीड़ वाले इलाके में सरे राह वारदात तो अंजाम देने के बाद आरोपित फरार हो गये थे और किसी ने देखा तक नहीं था। अनसुलझे संगीन मामलों की समीक्षा के दौरान यह मामला कई महीनों से उठ रहा था। सटीक सूचना पर चेतगंज पुलिस ने शातिर अपराधी महाबीर अग्रहरि व लालू उर्फ कृष्णचन्द्र यादव को हत्या में प्रयुक्त पिस्टल और मोटरसाइकिल सहित गिरफ्तार कर कड़ाई से पूछताछ की तो चौंकाने वाले खुलासे हुए। एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने मीडिया के समक्ष दोनों आरोपितों को पेश करते हुए सिलसिलेवार ढंग से पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी।

मामूली ताना बना वारदात का सबब

लालू उर्फ कृष्णचन्द्र यादव ने बताया गया कि 6 अक्टूबर को वह बैंक में आधार कार्ड की फोटो लगाने हेतु छायाप्रति कराने के लिए कमला पुस्तक भण्डार व फोटो स्टेट के दुकान पर गया था। सतीश राय ने मेरे आधार कार्ड की फोटो कापी की लेकिन यह स्पष्ट नहीं थी। मैंने स्पष्ट फोटो कापी करने के लिए कहा गया तो उनके द्वारा बताया गया कि ऐसे ही आयेगी। इस पर मैं बिना पैसा दिये जाने लगा, तब उनके द्वारा रोका गया इस दौरान हम दोनों के मध्य कहासुनी व गाली-गलौज हुई। धमकाने के लिए मैने कहा कि गोली मार दूंगा तो सतीश राय ने कहा तुम्हारे जैसे लोगों को बहुत देखा गया है। यह बात मुझे काफी बुरी लगी तो मैं जाकर अपने खास मित्र महावीर अग्रहरि को बताया और हत्या की साजिश रची। दो दिन रेकी के बाद वारदात को अंजाम देकर हम दोनों भाग निकले।

Related posts