झुन्ना पंडित की गिरफ्तारी रही ‘खेल’ या क्राइम ब्रांच के दबाव से दूसरे पैैंतरे ‘फेल’,लक्खा इनामी के शरणदाता में चौंकाने वाला नाम!

वाराणसी। दिव्यांग की हत्या सरीखी कई वारदात और इनाम बढ़ने पर भी झुन्ना पंडित का उतना नाम न होता जो शुक्रवार को रोपड़ पुलिस (पंजाब) के संग मुठभेड़ के बाद गिरफ्तारी से हुआ। माफिया डॉन बृजेश सिंह,मुन्ना बजरंगी, मुख्तार अंसारी, अन्नू त्रिपाठी और बाबू यादव से लेकर अपराध जगत में जो भी बड़े नाम हुए हैं उन्हें दिल्ली, हरियाणा या पंजाब पुलिस ने पकड़ा था। पिछले दो दिनों से चर्चा चल रही थी कि झुन्ना की दिल्ली में गिरफ्तारी हो सकती है।झुन्ना के पीछे हाथ धोकर पड़ी क्राइम ब्रांच वहां पर कैंप कर रही थी। आनन-फानन में समीपवर्ती जनपद के चर्चित ‘चेहरे’ की इंट्री हुई। नतीजा झुन्ना पंडित को दिल्ली के बदले पंजाब पुलिस ने ‘साहसिक’ मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया। बहरहाल अबट्रांजिट रिमांड पर पुलिस झुन्ना पंडित को लेकर आयेगी।

करीबियों पर कस दिया था शिकंजा

लालपुर के समीप दिव्यांगपान विक्रेता की हत्या के बाद से क्राइम ब्रांच और पुलिस हाथ धोकर झुन्ना पंडित के पीछे पड़ गयी थी। कई करीबियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका था। वारदात में साथ रहे इनामी ने गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में संकेत दिये थे कि झुन्ना ने दिल्ली के आसपास ठिकाना बनाया है। पिछले एक सप्ताह से अधिक समय से पुलिस ने झुन्ना के बारे में जानकारी जुटाली थी उससे किसी समय गिरफ्तारी हो सकती थी। झुन्ना को भी इसका एहसास हो चला था कि क्राइम ब्रांच निकट पहुंच चुकी हैै। सूत्रों की माने तो इस पर ‘आका’ से गुहार लगायी जिस पर सुरक्षित सलाखों के पीछे तक पहुंवाने का आश्वासन मिला। बहरहाल पुलिस ने .32 बोर की पिस्टल, आठ कारतूस झुन्ना के पास से मिले हैैं।

पुलिस ने बतायी यह कहानी

 रूपनगर पुलिस का कहना है कि पूर्वाचल के गैंगस्टर झुन्ना पंडित को चिंतपूर्णी से दिल्ली लौटते हुए काहनपुर खुही के पास शुक्रवार तड़के 4 बजे मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया है। मुठभेड़ के दौरान झुन्ना पंडित की तरफ से तीन और पुलिस ने चार फायर किए लेकिन ‘संंयोग’ था कि गोल किसी को नहीं लगी। दो दर्जन संगीन मामलों का आरोपित झुन्ना पंडित पिछले एक दश से अपराध जगत में सक्रिय है और कत्ल के मामले में पहली बार गिरफ्तारी के समय उसकी उम्र महज 16 साल थी। 

Related posts