जेल से हुआ ‘साथ’ तो गुजरात तक जाकर मारा लंबा ‘हाथ’, मुंबई से उड़ायी सरकारी पिस्तौल भी बरामद

जौनपुर। क्राइम ब्रांच ने बुधवार को मुठभेड के दौरान लुटेरों के एक ऐसे गैंग को दबोचा जो पूर्वांचल ही नहीं बल्कि गुजरात तक में 45 लाख की लूट कर चुका है। गिरोह से कड़ाई से पूछताछ की गयी तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए। एसपी आशीष तिवारी ने मीडिया के सामने गिरफ्तार बदमाशों को पेश करते हुए सिलसिलेवार ढंग से समूची कहानी बतायी। इनके सरगना के पास मिली मिली 9 एमएम की जो पिस्टल बरामद हुई है वह मुम्बई से चोरी हुई है। सरकारी पिस्टल की चोरी के बाबत मु्म्बई में थाना शाहापुर पर मुकदमा पंजीकृत है। गुजरात की लूट में मिले पैसों से स्कार्पियो खरीदी गयी थी जिससे गिरोह वारदातों को अंजाम देता था।

दूसरे के नाम से खरीदा था वाहन

गिरोह के सरगना कमलेश बिन्द ने कबूल किया कि वह जनपद जौनपुर में जेल मे निरुद्ध था। जमानत पर छूटने के उपरान्त वह अपने साथी सचिन बिन्द निवासी मछलीशहर के साथ गुजरात के गांधीनगर मे जाकर रहने लगा। वहां पर फरवरी 2019 में दिनदहाड़े अपने साथी सचिन बिन्द, अजित बिन्द, सोनू सेख, सुधाकर बिन्द के साथ एक्सीस बैंक में घुसकर गोलियां चलाते हुये 44.18 लाख रुपये की लूट किया था। इस लूट मे उसे हिस्से के तौर 7 लाख रुपये मिले थे जिसमे से 3 लाख रुपये अपने मामा को वहीं पर उधार दे दिया क्योकि उसके मामा काफी कर्जदार हो चुके थे तथा 4 लाख रुपया उसने अपने पटीदार दीपचन्द्र के खाते मे डाल दिया था। दीपचन्द्र के नाम के स्कार्पियो गाड़ी बैंक से फाइनेंस कराकर खरीदवाया। बरामद स्कार्पियो उसी लूट के रुपये से खरीदी गयी। अपने नाम से उसने इसलिए नही खरीदा ताकि पकड़ा न जा सके। उसने बताया कि पिछले माह की 27 तारिख को गुजरात से अपने घर आया और अपने साथी टोनी उर्फ सूरज बिन्द के साथ बक्सा के गड़ासेनी में एक तिलक समारोह से रात मे एक सीडी डीलक्स बाइक चुरायी। अपने साथी टोनी, सन्तोष यादव, रन्जीत कुमार गौतम उर्फ राजा बाबू, अतुल सिंह उर्फ गब्बर सिंह, गुड्डू यादव के साथ मिलकर द्वारा भिटौली महराजगंज के एक व्यक्ति को बैंक से रुपया निकालकर जाते समय लूटने की योजना बनाई। योजना के मुताबिक यह लूट 7 मई को ही करनी थी किन्तु उस दिन वह व्यक्ति बैंक से रुपया नही निकाला इसलिए इस लूट की वारदात 9 को अन्जाम दी गयी। इस घटना में गुड्डू यादव और राजा बाबू ग्राम भटौली मे मौजूद रहकर वादी मुकदमा का घर से निकलकर बैंक जाने का लोकेशन दिये तथा अतुल व सन्तोष यूनियन बैंक महराजगंज में मौजूद रहे। लूट में कुल 65 हजार रुपये मिले थे। वारदात में प्रयुक्त असलहे बिन्दु पाण्डेय निवासी ग्राम गधियावां थाना आसपुर देवसरा से 15 हजार में खरीदे थे। सर्विस पिस्टल 9 एमएम के बाबत बिन्दु पाण्डेय द्वारा ही बताया जाएगा क्योंकि वह ही असलहा बेचने खरीदने का काम करते है।

पुलिस टीम में थे यह शामिल

गिरफ्तार और बरामदगी करने वाली पुलिस टीम में इंस्पेक्टर अतुल नारायण सिंह प्रभारी सर्विलांस, इंस्पेक्टर राजीव सिंह प्रभारी स्वाट, इंस्पेक्टर महराजगंज त्रिवेणीलाल सेन, एसओ सुजानगंज संतोष पाठक, एसआई वासदेव प्रसाद, वीरेन्द्र यादव व गोविन्द देव मिश्रा प्रभारी चौकी तेजीबाजार, धनुषधारी पाण्डेय प्रभारी चौकी तेजीबाजार राजाबाजार आदि शामिल थे।

Related posts