वाराणसी। पिछले कुछ सालों में अवैध शराब की सबसे बड़ी बरामदगी रोहनिया इलाके में हुिई थी। खास यह कि बड़े गुडवर्क के एक दिन बाद ही इंस्पेक्टर लाइन हाजिर कर दिये गये। वजह, खुलासा उनका नहीं था बल्कि वहां की पुलिस तस्करों से मोटी रकम वसूलती थी। इस खेल में बाधक बने गये इंस्पेक्टर शिवपुर विजय बहादुर सिंह। इंस्पेक्टर शिवपुर इन दिनों अवैध शराब की तस्करी करने वालों के लिए काल बन गये हैं। शुक्रवार को छापेमारी में 151 पेटी अवैध शराब व टवेरा कार के संग छह शराब तस्करों को धर-दबोचा। पूछताछ में पता चला कि तस्कर इस शराब को दीपावली पर चंदौली में खपाने की तैयारी में थे। पुलिस के अनुसार तस्करों ने शराब को झाडियों में छिपा कर रखा था इसकी कीमत 4.5 लाख रुपये आंकी गयी है।

पिसौर पुल के पास हुई बरामदगी

सीओ कैंट का कार्यभार देख रहे एएसपी अनिल कुमार के मुताबिक शिवपुर थाना प्रभारी को मुखबिर से सूचना मिली कि पिसौर पुल के पास कुछ शराब तस्कर मौजूद हैं। इस पर तत्काल घेराबंदी करते हुए चेकिंग शुरू की गयी। वहां पर एक टवेरा मौजूद थी लेकिन फोर्स को देख कुचलते हुए भागने का प्रयास किया। पहले की गयी घेराबंदी काम आयी और टवेरा को रोक कर तलाशी ली गयी उसमे शराब बरामद हुई। हिरासत में लिये लोगों से कड़ाई से पूछताछ की गयी तो पुल के पास ही झाडिय़ों में छिपा कर रखी गयी 87 पेटी अवैध शराब बरामद हो गयी। गिरफ्तार तस्कर विनोद यादव, विजय कुमार मौर्य, विनोद कुमार यादव, मनीष सरोज, बृजेश कुमार यादव व बृजेश सोनकर जौनपुर के रहेन वाले हैं। उन्होंने कबूल किया किया कि दीपावली पर इस शराब को वाया चंदौली बिहार भी भेजा जाता। गिरफ्तारी और बरामदगी में एसआई हरिनारायण पटेल, धीरेन्द्र प्रताप सिंह, देवाशीष सिंह, अजय कुमार सिंह आदि शामिल थे।

admin

No Comments

Leave a Comment