बलिया। लोकसभा चुनाव में एक साल से कम का समय शेष बचा है। भाजपा के फायर ब्रांड नेता एक बार फिर से राम मंदिर का मुद्दा गरमाने लगे हैं। ऐसे में आरएसएस नेता इन्द्रेश कुमार की सक्रियता भी अचानक बढ़ गयी है। गुरुवार को पहुंचे संंघ विचारक ने भाजपा सांसद सहित पार्टी नेताओं को 108 बार रामजाप कराया। इसके साथ ही बीजेपी कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि रामजन्म भूमि पर मंदिर ही बनेगा और कुछ मुसलमान विचारकों ने तय किया है की बाबर के नाम पर मस्जिद ना अयोध्या ना फैजाबाद ना पूरे देश में बनेगा। आरएसएस नेता इन्द्रेश तो यहा तक कह गये कि हिन्दुस्तान, पाकिस्तान, बांग्लादेश ही नहीं बल्कि दूसरे पड़ोसी देशों के मुसलमान विदेशी नहीं बल्कि रामलाल और श्यामलाल संताने है जिसे अब मुसलमान समझने लगे है। तीन तलाक को लेकर चल रहे विवाद पर कहा कि तलाक लोगे तो जेल जाना पडेगा। इसलिए प्यार किया है तो वादा निभाना पडेगा।

चार बिन्दुओं पर बन गयी है सहिमति

इंद्रेश कुमार ने मंदिर मुद्दे पर कहा की कुछ दिन पहले लखनऊ में 100 से 150 मुसलमान विचारकों ने चार विन्दुओं पर सहमति जताई है। इनमे पहला रामजन्म स्थान पर मंदिर ही बनेगा। दूसरा बाबर के नाम पर ना अयोध्या, ना फैजाबाद, ना यूपी, ना देश में ना ही विदेश में मस्जिद बनेगी क्योंकि ये इस्लाम का अपमान है। तीसरा मस्जिद के लिए सरकार जमीन दे जो अयोध्या और फैजाबाद से बाहर बनेगी। इसकी शर्त होगी कि मस्जिद में बुनियादी तालीम , अमन ,रोजगार की व्यवस्था होगी और सदभाव आना चाहिए। इस प्रस्ताव पर जल्द ही बहस शुरू होगी। हिन्दुस्तान के 17 करोड़, पाकिस्तान के 16 करोड़ , बांग्लादेश के 12 करोड़ और आसपपास के देशों के लगभग 10 लाख मुसलमान विदेशी नहीं है। इन सबके दादा परदादा रामलाल और श्याम लाल की संताने है। उन्हें ये बात समझ में आने लगी है। राम मंदिर बनने के लिए रविशंकर सहित कई लोग प्रयास कर रहे है और सभी चाहते है की अयोध्या में मुसलामानों का महा सम्मलेन बुलाया जाए। अब इतना तो पक्का है की देश में भड़काने वाला कोई कामयाब नहीं होगा। गृहयुद्ध तो दूर पूरी शान्ति से मंदिर का निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि सभी धर्म और जातियों से अपील की जा रही है और मंदिर के निर्माण में उन्हें भी सहभागिता मिली चाहिए ताकि यमराज के यहां जाने पार नर्क मिलते मिलते थोड़ा स्वर्ग भी मिला जाए । स्वर्ग पाने के दो रास्ते है पहला राम का नाम जपना और स्वर्ग जाना ।

फतवों से साख खोते जा रहे हैं मौलाना

मौलानाओं के फतवों पर टिप्पड़ी करते हुए बैंकिंग सहित ब्यूटी पार्लर सहित कई मसलों पर फतवे जारी करने वाले मौलाना अपनी साख खोते जा रहे है। जिस मौलाना ने ब्यूटीपार्लर पर फतवा जारी किया उसकी अपनी नातिन ही देवबंद में ब्यूटीपार्लर चलाती है। समूचे देश के कुल ब्यूटीपार्लर में से 30 प्रतिशत पार्लर मुस्लिम महिलाये चलाती है। आरएसएस नेता इन्द्रेश ने कहा की कुरान के मुताबिक फतवा सिर्फ सलाह होता है नाकि कोई आर्डर । कुरान के जरिये फतवा देने की किसी मौलाना की हैसियत नहीं है।

admin

No Comments

Leave a Comment