वैश्विक पुष्प निर्यात में भारत की महत्वपूर्ण भूमिका, सही ढंग से करें खेती तो जरूरत न पड़े नौकरी की: डा. जानकीराम

वाराणसी। समूचे विश्व के पुष्प निर्यात में भारत की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है। हिन्दुस्तान में सिर्फ गुलाब की ही 100 से ज्यादा निर्यात इकाई कर्नाटक राज्य में स्थापित है। यह यूरोपियन देशो के लिये बहुत बड़ा निर्यात का क्षेत्र है। देश के मिजोरम में जहां सर्वश्रेष्ठ आर्किड पुष्प उगाये जाते है वही गुलाब, ग्लैडिओलस, सेवंती, पिटूनिया आदि की विभिन्न किस्मों का विकास पुष्पोधान में अति महत्वपूर्ण है। पॉट प्लांट रेंटल सर्विस का महत्वपूर्ण योगदान स्थापित हो रहा है जिससे रोजगार के क्षेत्र में क्रांति आई है। बीएचयू कृषि विज्ञान संस्थान के सेमिनार हाल में बुधवार को सहायक महानिदेशक उद्यान विज्ञान भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद नई दिल्ली के डा. टी जानकीराम ने कहा कि इस पर ध्यान दिया जाये तो खासी कमाई की जा सकती है।

नये शोध से जुड़ी दी जानकारियां

डॉ. जानकीराम ने पुष्पोद्यान (फ्लोरीकल्चर) क्षेत्र में हो रहे विभिन्न शोध कार्यो का विवरण प्रस्तुत किया। इसके बाद निदेशक प्रो. रमेश चन्द तथा अधिष्ठाता कृषि संकाय प्रो. एपी सिंह द्वारा अतिथि को अंगवस्त्रम व स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मान किया गया। कार्यक्रम के अंत में प्रो. अनिल कुमार सिंह आचार्य प्रभारी उद्यान विशेषज्ञ इकाई द्वारा धन्यवाद ज्ञापन किया गया जिसके बाद पौधारोपण का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का संचालन उद्यान विज्ञान विभाग की आचार्य डॉ. अंजना सिसोदिया द्वारा किया गया।

Related posts