चंंदौली। यूपी-बिहार की सीमा पर स्थित नौबतपुर में सरकारी विभागों और सफेदपोशों के गठजोड़ अवैध बालू मंडी चल रही थी। गुरुवार को एसपी संंतोष सिंह ने डीएम हेमंत कुमार के साथ वहां छापेमारी करायी तो हड़कंम मच गयी। कार्रवाई के तहत करोड़ों की लाल बालू को जब्त कर लिया गया है। इसके अलावा मौके पर मिले 5 लोडेड ट्रक,6 ट्रैक्टर तथा दो लोडर गाड़ी को सीज कर दिया गया है। खास यह कि समूचा गोरखधंधा वन विभाग और पुलिस के चेकपोस्ट के सामने हो रहा था जबकि खनन विभाग यहां पर कभी झांकने तक नहीं था।

सरकारी जमीन पर रङी बालू जब्त, निजी पर मुकदमा

एसपी ने स्वीकार किया कि बड़े पैमाने पर बिहार के बालू को बिना टैक्स दिए यहां पर लाने के बाद उंची दरों पर बेचा जा रहा था। तस्कर नेशनल हाईवे पर चुंगी से पहले बिहार से लाकर लाल बालू गिरा देते थे। कारवाई के तहत एनएच के किनारे सरकारी जमीन पर जो भी बालू मिला उसकी किसी ने दावेदारी नहीं जिससे उसको लावारिस घोषित कर सीज करा दिया गया है। जिसकी भूमि पर बालू रखा है उसको मुल्जिम बनाने के साथ जुर्माने की वसूली की जायेगी। शिकायतें काफी समय से थी लिहाजा डीएम से खनन और वन विभाग को साथ लाने का अनुरोध किया गया था।

डीएम ने दिये कार्रवाई के आदेश

करोड़ों की बालू जब्त होने के संग विभागीय संलिप्तता को ध्यान में रखते हुए डीएम ने सख्त रुख अख्तियार किया है। उन्होंने अधिकारियों के खिलाफ विभागीय कार्यवाही करने के साथ प्रकरण की जांच के आदेश दिये हैं। बताया जाता है कि समूचा खेल ‘नेताजी’ के संरक्षण में चलता था। दूसरे ने इसकी शिकायत कर दी जिसका परिणाम छापेमारी के रूप में सामने आया है।

admin

No Comments

Leave a Comment