जौनपुर। कठार गांव (सिकरार) में 19 अप्रैल को विवाहिता संजू यादव (25) की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। शव फंदे पर लटका मिला था और ससुरालवालों का दावा था कि संजू ने खुदकुशी की है। दूसरी तरफ पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उसकी मौत का कारण गला दबाना (इंस्टेगुलेशन) बताया गया है। मायके वालों की तहरीर पर पुलिस ने पांच के खिलाफ आईपीसी की धारा 147, 304, 504 की धारा में मुकदमा दर्ज कर दिया था। शुक्रवार को पुलिस ने वांछित चल रहे आरोपित देवर रमापति यादव व अनिरुद्ध यादव को भोर में सिकरारा चौराहा के पास से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

हत्या के पहले की थी पिटाई

हाजीपुर-फरीदाबाद गांव (बक्शा) निवासी राम बरन यादव ने थाने पर तहरीर दिया कि मेरी बेटी संजू यादव (की शादी वर्ष 2009 में कठार गांव निवासी गौरीशंकर यादव के पुत्र अवधेश यादव के साथ हुई थी। घरेलू विवाद को लेकर मेरी बेटी को सास विद्या देवी, देवर रमापति, शैलेश व अनिरुद्ध के साथ देवरानी रेखा देवी ने दिन में लगभग तीन बजे लात घूसों से बेरहमी से पिटाई की जिससे मेरी बेटी की मौत हो गई। बेटी की मौत के बाद इन लोगो ने मेरी बेटी की फंदे पर लटका कर आत्महत्या का नाटक रचा है। पुलिस ने पांचों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में विवाहिता की मौत का कारण स्पष्ट होने के बाद आरोपितों की तलाश तेज की गयी और उन्हें दबोच लिया गया।

admin

No Comments

Leave a Comment