वाराणसी। चार साल पहले केन्द्र की सत्ता में काबिज होने के बाद पीएम मोदी ने कौशल विकास समेत युवाओं के लिए कई योजनाओं की घोषणा की थी। समय बीतने के साथ इसका क्रियान्वन भी आरम्भ हुआ। काशी उनका संसदीय क्षेत्र होने के नाते योजनाओं का अहम केन्द्र भी रहा। इसका लाभ उठाते हुए जालसाजों ने बाकायदा गंैग बना कर बेरोजगारों से उगाही शुरू कर दी। सीओ सदर अंकिता सिंह के नेतृत्व में लोहता पुलिस ने जालसाजों के इस गिरोह को लेकर बड़ा खुलासा किया है। जालसाज पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट कौशल विकास योजना सहित अन्य सरकारी योजना के नाम पर लोगों से पैसा लेता था और फिर गायब हो जाता था। बुधवार को एसपीआर अमित कुमार ने सरगना समेत पांच लोगों को मीडिया के सामने पेश करते हुए बताया कि आंगनबाडी कार्यकर्ती समेत दो महिलाएं भी गिरोह में शामिल थी।

तैयार करके रखते थे नकली कागजात

एसपीआरए अमित कुमार के मुताबिक आरम्भिक जांच में पता चला है कि गिरोह ने योजनाबद्ध तरीके से फार्म, प्रमाण पत्र, परिचय पत्र आदि भी प्रिंट करा कर रखे थे जिससे लोगों को शक न हो। शातिराना अंदाज में पहले शिकार की रेकी करते थे और जब विश्वास होता कि फंस सकता है तभी शिकार बनाते थे। गिरोह में आंगनबाड़ी कार्यकर्ती के रहने से इन्हें सरकारी योजनाओं की पूरी जानकारी रहती थी। अपने शिकार से यह 5 से 10 हजार वसूलते थे और दो हजार से अधिक इनके जाल में फंस चुके हैं। गिरोह ने साइन इंस्टीट्यूट नामक कम्प्यूटर सेंटर भी खोल रखा था जिससे किसी को शक न हो। एसपीआरए का दावा है कि एक करोड़ से अधिक का फर्जीवाड़ा इस गिरोह ने किया है और इनका पकड़ा जाना पुलिस की बड़ी कामयाबी है।

काफी समय से थी पुलिस को तलाश

सीओ सदर ने स्वीकार किया कि पुलिस को इस गिरोह की काफी समय से तलाश थी। लोहता पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली की वांछित अभियुक्त अवधेश मिश्रा उर्फ रिंकू अपने साथियों के संग आने वाला है जिस पर पुलिस ने पिसौर पुल पर घेराबंदी की। गैंग लीडर अवधेश मिश्रा को पकड़ कर कड़ाई से पूछताछ के बाद रोहित त्रिपाठी व नीलम पांडेय (आंगनबाड़ी सेविका) तथा किरन जायसवाल निवासीगण चन्द्रावती (चौबेपुर) के अलावा शैलेश कुमार हैबतपुर (लोहता)तो गिरफ्तार किया गया। इनका एक साथी रवि श्रीवास्तव निवासी छिनौती (लोहता) फरार है। पुलिस ने इनके पास से विभिन्न योजनाओं के फर्जी फार्म, प्रमाण पत्र सहित कम्प्यूटर आदि बरामद किये हैं।

admin

No Comments

Leave a Comment