नंदोई के प्यार में ऐसी डूबी कि कटवा दिया पति का गला, सफाइकर्मी की हत्या का खुला राज तो नहीं हुआ विश्वास

मीरजापुर। एक सप्ताह पहले नन्दूपुर रूदौली में स्थित प्रभु विश्वकर्मा के खेत में मिली अज्ञात युवक की लाश पुलिस के लिए बड़ी चुनौती थी। वजह, मृतक की शिनाख्त नहीं हो सकी थी और आसपास कही से कोई सम्पर्क नहीं मिल पा रहा था। ऐसे में तलाशी के दौरान मिली फटे कागज की पर्ची को आधार बना कर पुलिस ने पड़ताल शुरू की तो चौंकाने वाला खुलासा हुआ। मृतक विजय कुमार वाल्मीकि कैण्ट रेलवे वाराणसी में सफाईकर्मी के पद पर तैनात था। शिवपुरवा (सिगरा) में रहे वाला विजय संदिग्ध हालात में लापता था और कहीं पती नहीं चल रहा था। शिनाख्त के बाद सीओ चुनार के संग इंस्पेक्टर कमलेश पाल व रमाकान्त यादव के अलावा स्वाट टीम प्रभारी राम स्वरुप वर्मा ने उलझी गुत्थी सुलझानी शुरू की।

रास्ते से हटानेके संग पानी थी नौकरी

पुलिस की जांच में पता चला कि मृतक की पत्नी ज्योति व मृतक के बहनोई राज बाल्मीकी में अवैध प्रेम सम्बन्ध था, जिसका मृतक विरोध करता था। मृतक की पत्नी ज्योति अपने पति विजय कुमार वाल्मीकी को रास्ते से हटाने के अलावा उसके स्थान पर नौकरी चाहती थी। पैसों के लालच में राजू वाल्मिकी व उसके साथी सागर कुमार वाल्मिकी उर्फ अजीत के सहयोग से 5 दिसंबर की रात गला रेत कर घटना कारित करावायी थी। मुखबिर की सूचना पर मंगलवार को अभियुक्तगण को साधो-माधो पुलिया के पास गिरफ्तार किया गया। राजू के निशान देही पर आला कत्ल चाकू व सागर कुमार वाल्मीकि उर्फ अजीत के निशान देही पर मृतक विजय कुमार वाल्मीकी का 1 जोड़ा चप्पल बरामद किया गया। कोर्ट में पेशी के बाद सभी को जेल भेज दिया गया।

Related posts