गाजीपुर। मुहम्मदाबाद इलाके में भीड़ भरे रजिस्ट्री ऑफिस के गेट पर सरेआम वकील अनिल सिंह की गोली मार कर हत्या की कोशिश की गई। संयोग रहा कि गोली उनके कंधे से कुछ दूर निकल गई। मौके पर तत्काल पहुंची पुलिस ने हमलावर युवक समेत पांच लोगों को धर-दबोची जबकि हमलावर के अन्य साथी अपने वाहनों से भागने में सफल रहे। इस घटना के बाद रजिस्ट्री ऑफिस सहित तहसील के आसपास सनसनी फैल गई। पकड़ा गया हमलावर हिम्मत सिंह मऊ शहर के भिटी का रहने वाला है। उसके कब्जे से घटना में इस्तेमाल मय कारतूस तमंचा तथा स्कार्पियो बरामद हुई है। इस मामले में अनिल सिंह ने हिम्मत सिंह के अलावा कासिमाबाद थाने के महुवारी नगवा के रामजी सिंह के खिलाफ नामजद एफआइआर दर्ज कराई है।

भूमि विवाद में चली गोली

सीओ महिपाल पाठक के मुताबिक यह घटना भूमि विवाद का परिणाम है। वकील अनिल सिंह मुहम्मदाबाद तहसील में प्रैक्टिस करते हैं और कासिमाबाद थाने के मिर्जापुर गांव के रहने वाले हैं। घटना के बाबत उन्होंने बताया कि वह मुंसफी गेट पर खड़े थे। उसी बीच पता चला कि रामजी सिंह उनके गांव की विवादित भूमि बेचने के लिए आए हैं। उनके साथ कई हथियारबंद लोग भी हैं। वह यह जानने के लिए कहीं उस भूमि में उनके हिस्सा भी रामजी सिंह बेच तो नहीं रहे हैं, वह रजिस्ट्री गेट पर पहुंचे ही थे कि वहां मौजूद रामजी सिंह ने उनकी हत्या के लिए अपने पास खड़े हिम्मत सिंह को ललकारे। उसके बाद हिम्मत ने उन्हें लक्ष्य कर गोली चला दी। सौभाग्य रहा कि उसका निशाना चूक गया। गोली चलने की आवास सुन आसपास खलबली मच गई। अनिल सिंह के साथ मौके पर रहे चचेरे भाई सूर्यकांत सिंह ने पुलिस को फोन कर सूचना दी। उसी बीच हमलावर समेत रामजी सिंह और उनके साथी भागने लगे लेकिन तत्काल पहुंची पुलिस हिम्मत, रामजी सिंह वगैरह को पकड़ ली लेकिन उनके कुछ साथी भाग निकले। अनिल सिंह ने बताया कि रामजी सिंह उनकी हत्या के लिए पूरी तैयारी करके आए थे।

admin

No Comments

Leave a Comment