चंदौली। नक्सली हिंसा से प्रभावित नौगढ़ ब्लाक के ब्लाक प्रमुख जवाहिर खरवार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास न हो इसकी खातिर भाजपा सांसद छोटेलाल खरवार ने सारे पैंतरे अपनाये थे। कलेक्टर-कप्तान से लेकर तमाम अधिकारियों पर विरोधियों से मिलने का आरोप लगाया। उनके खिलाफ लाबिंग करने से लेकर बीडीसी सदस्यों को जांच से लेकर दूसरी धमकियां दी गयी। बावजूद इसके वह भाई की कुर्सी नहीं बचा पाये। जिला मुख्यालय पर मगलवार को हुई मतगणना के बाद अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में पड़े सभी 27 वोट वैध पाए गए। गणना के बाद अविश्वास प्रस्ताव लाने वाले खेमे में जीत का जश्न शुरू हो गया है जबकि सांसद खेमे में मायूसी छायी है।

पूर्व प्रमुख नीतू सिंह लायी थी अविश्वास प्रस्ताव

नौगढ़ की पूर्व ब्लाक प्रमुख और बीडीसी सदस्य नीतू सिंह के नेतृत्व में यह अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था। वोटिंग के बाद कोर्ट के आदेश पर मंगलवार को मतगणना कराई गयी है। यहां ब्लाक प्रमुख रहे जवाहिर खरवार सोनभद्र के बीजेपी संसद छोटेलाल खरवार के भाई हैं और मतदान के दिन सांसद की प्रशासन से झड़प हो गयी थी। सांसद ने वहां धरना देकर आरोप लगाये जिसके जवाब में जिला प्रशासन ने वहां लगे सीसी कैमरे की सीडी शासन को भेज दी। कोर्ट में मामला लंबित होने के नाते तत्काल गणना नहीं हुई थी।

admin

No Comments

Leave a Comment