बलिया। सपा के शासन काल में मनियर ब्लाक के ग्राम पंचायत दिघेडा में मनरेगा कार्यों में जमकर धांधली की गयी। वर्ष 2011-12 से 2016-17 के बीच मनरेगा व ग्राम निधि खाते से प्राप्त 50 लाख रुपए से अधिक सरकारी धन एवं आवास शौचालय आदि में भारी गड़बड़ी की। इसके साथ ही धन आहरित 70 से 71 कार्यों में से 36 से 37 कार्यों पर बिना कार्य कराए ही पूर्व नियमित कार्यों को अपना दिखाकर एक ही योजना का नाम बदलकर दो तीन बार धन अहरित करने का आरोप भी है। इसमें से 7 से 8 योजना ही मौके पर हैं। जांच के दौरान गबन माना गया है।

शिकायत पर पुलिस ने नहीं दर्ज की थी रपट

गबन के आरोपों के मामले में सिविल जज सीनियर डिवीजनल बलिया ने 156 ( 3) के तहत थानाध्यक्ष मनियर को प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना करने का आदेश दिया है। अमरनाथ पाठक (निवासी दक्षिण पटखौली थाना मनियर) ने कोर्ट में दिए गए प्रार्थना पत्र में दर्शाया था कि शमीम अहमद निवासी दिघेडा विकासखंड मनियर 2011-12 में प्रधान रहे हैं। इनके कार्यकाल के दौरान कथित घोटेले की शिकायतअमरनाथ ने थाने पर की लेकिन रिपोर्ट नहीं लिखी गई। घटना की सूचना सूचना रजिस्ट्री के जरिए एसपी बलिया को भी दी गई उक्त प्रार्थना पत्र पर संबंधित थाने से आख्या मांगी गई। आख्या के अनुसार थाना स्थानीय पर कोई मुकदमा दर्ज नहीं किया गया। प्रार्थी के प्रार्थना पत्र पर सुनवाई करते हुए न्यायालय ने एसओ मनियर को एफआईआर दर्ज कर नियमानुसार विवेचना करने के आदेश दिये। आदेश की प्रति थानाध्यक्ष को जरिए पैरवीकार को प्रेषित करने का आदेश हुआ है।

admin

No Comments

Leave a Comment