वाराणसी। जनपद में निषेधाज्ञा लागू है। किसी तरह के जुलूस निकालने की अनुमति नहीं है। बावजूद इसके सोमवार को आर्थिक आधार पर आरक्षण समर्थक समाज संगठन ने लंका के सिंहद्वार से जातिगत आरक्षण के विरोध में जुलूस निकाला। पुलिस ने हाथों में तख्तियां लिये नारेबाजी करने वालों को पद्मश्री चौराहे के पास रोकने की कोशिश की तो धक्का-मुक्की शुरू हो गयी। इस दौरान संगठन के अध्यक्ष अविनाश आनंद का हाथ और शरीर का एक हिस्सा जलने लगा। पुलिस ने किसी तरह आग बुझाने के साथ अविनाश आनंद को मंडलीय अस्पताल कबीरचौरा में भर्ती कराया गया है। अविनाश का दाहिना हाथ आंशिक रूप से जल गया है। उसे बचाने में संगठन से जुड़े एक अन्य युवक सतवीर सिंह मामूली रूप से झुलस गया। इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार लोगों में रामपुर पिंडरा निवासी गौरीश सिंह बीएचयू का छात्र है जबकि भुसौला चोलापुर निवासी देवेन्द्र सिंह, छतांव चोलापुर के रजनीकान्त उर्फ आशू व हरेन्द्र कुमार निवासी पिड़खिड़ी रोहनिया है।
पुलिस का दावा खुद लगायी आग, पीड़ित का आरोप किसी ने फेंकी
घटनाक्रम के बाबत इंस्पेक्टर भेलूपुर एएन सिंह का कहना है कि अविनाश प्लास्टिक की शीशी में पेट्रोल लेकर आया था। जुलूस को रोकने की कोशिश पर उसने खुद ही आग लगाई। दूूसरी तरफ अस्पताल में भर्ती अविनाश का आरोप है कि जुलूस में कुछ अराजक तत्व आ गए थे जिन्होंने पेट्रोल में डूबा कपड़ा उसके उपर फेंक कर आग लगा दी। इंस्पेक्टर का कहना है कि संगठन ने लंका पुलिस से जुलूस निकालने की अनुमति मांगी थी लेकिन पुलिस ने धारा 144 का हवाला देते हुए इंकार कर दिया था। अविनाश समेत गिरफ्तार लोगों पर धारा 144 के उल्लंघन, आत्मदाह की कोशिश समेत अन्य संगीन धाराओं में मुकदमा कायम किया है।
खुद को आरएसएस से जुड़ा बताया, चार माह पहले भी भेजा था ज्ञापन
इस संगठन ने चार माह पहले राष्ट्रपति को 90 हजार लोगो का हस्ताक्षर करा कर ज्ञापन भेजा था। इस समिति का चार वर्ष पहले गठन हुआ था। इसमें बनारस मे 10 हजार सदस्य हैं। गौरिश सिहं इस संगठन में बीएचयू का प्रमुख है। जले हुये अविनाश आनन्द को कबीर चौरा के डाक्टरो ने इलाज कर डिस्चार्ज कर दिया लेकिन कुछ छात्र वहा पहुँच कर विरोध करने लगे तो इंस्पेक्टर कोतवाली को मौके पर भेजा गया। संंगठन के कर्ताधर्ता खुद को आरएसएस से जुड़ा बताते हैं। उल्लेखनीय है कि बिहार चुनाव के दौरान मोहन भागवत न भी आर्थिक आधार पर आरक्षण का मुद्दा उठाया ता जिसे लेकर काफी विवाद हुआ था।

admin

No Comments

Leave a Comment