कैसे लगे लगाम जब ‘वर्दीधारियों’ने संभाल रखी थी शराब तस्करी गैंग की कमान, दो सिपाही गिरफ्तार जबकि तीसरे से चल रही पूछताछ

वाराणसी। इन दिनों शराब तस्करी के मामले आये दिन पकड़ में आ रहे हैैं। इस क्रम में इंस्पेक्टर मुगलसराय शिवानंद मिश्र ने सोमवार की रात औद्योगिक नगर क्षेत्र के पास से एक लग्जरी कार से हरियाणा निर्मित 566 बोतल बरामद करते हुए दो लोगों को गिरफ्तार किया तो सनसनी खेज खुलासे हुए। शराब तस्करी कराने की कमान ‘वर्दीदारियों’ के हाथ में थी। रामनगर थाने के दो सिपाही वैभव कुमार यादव और सोनू यादव तो गिरफ्तर किये जा चुुके हंै जबकि पुलिस लाइंस से संबद्ध अजीत यादव को हिरासत में लेकर कैंट थाने पर देर रात कर पूछताछ का सिलसिला जारी था। एसपी चंदौली हेमंत कुटियाल ने स्वीकार किया है कि सिपाहियों की गिरफ्तारी करने के साथ आला अफसरों को रिपोर्ट भेजी जा चुकी है

विरोधी गुट का माल जब्त कर लूटते थे ‘वाहवाही’

एसपी ने मंगलवार को गिरफ्तार आरोपितों को मीडिया के सामने पेश करते हुए सिलसिलेवार ढंग से पूरी कहानी बतायी। इंस्पेक्टर मुगलसराय ने सटीक सूचना पर चेकिंग के दौरान लक्जरी कार को रोक कर तलाशी ली तो भारी मात्रा में हरियाणा निर्मित अंग्रेजी शराब बरामद हुई। इस बीच हिरासत में लिये गये झंझर (हरियाणा) निवासी संदीप सिंह और दीपक के फोन करने पर दो वर्दीधारी आ धमके। शराब तस्करों को अपना आदमी बताते हुए छोड़ने को कहा और इनकारकर ने पर मुजाहमत पर उतारू हो गये। इन दोनों को हिरासत में लेकर कड़ाई की गयी तो स्पष्ट हुआ कि दूसरे गुट का माल वर्दीधारी पकड़वा देते थे।

पुलिस सेवा से बर्खास्तगी की लटकी तलवार

एसपी चंदौली का दावा है किअजीत यादव गिरोह का सरगना है और उसके गैंग में बड़ीसंख्या में दूसरे भी शामिल है। सुनियोजित तरीके से गिरोह बनकर तस्करी कराने वाले सिपाहियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कीसंस्तुति की जायेगी जिसमें पुलिस सेवा से बर्खास्तगी भी शामिलहै। गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की जा रही है और अवैधतरीके से अर्जित सम्पति को इसकी धाराओं के तहत जब्त कियाजायेगा।

Related posts