सुन कर राज्यमंत्री अनिल राजभर की खरी-खरी, ओमप्रकाश ने कर भाजपा सरकार से छुट्टी!

बलिया। सभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने भाजपा को 24 फरवरी तक अल्टीमेटम दिया था। आरक्षण में बंटवारा न होने पर गठबंधन तोड़ लेने की चेतावनी दी थी। इस पर पार्टी ने राज्यमंत्री अनिल राजभर को आगे कर ओमप्रकाश राजभर के वोट बैंक में सेंध लगानी शुर कर दी। महाराजा सुहेलदेव की नवनिर्मित मूर्ति का अनावरण करने पहुचे राज्यमंत्री अनिल राजभर ने मीडिया से बातचीत में ओमप्रकाश राजभर को इशारों इशारों में गठबंधन तोड़ लेने के लिए स्वतंत्र बता दिया। ओमप्रकाश ने भी गुरुवार को सीएम योगी को पत्र भेजते हुए मंत्रालय के प्रभार से मुक्त होने की इच्छा जता दी।

सगड़ी तक नहीं चलवा सके थे महाराज सुहेलदेव के नाम पर

राज्यमंत्री ने कार्यक्रम के मंच से ओमप्रकाश राजभर पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी की सरकार ने तो महाराजा सुहेलदेव के स्थलों को सजाने, सवारने,विकसित करने के लिए खजाने में से अलग पैसा निकाल कर रख दिया है। इतना ही नहीं बीजेपी के लोगों ने तो ट्रेन चलाकर दिखा दिया मगर जिन लोगों ने महाराजा सुहेलदेव के नाम पर राजनीति की रोटी सेकने का काम किया है वो एक सगड़िये चला कर दिखा दें या एक ट्रेन चलाकर ही दिखा दें। राज्यमंत्री ने ओमप्रकाश राजभर पर तंज कसते हुए इशारे इशारों में उनको पिछड़े समाज के लिए ग्रहण बता दिया। यहां तक कहा कि आने वाले दिनों में ये ग्रहण छट जाएगा। ग्रहण की उम्र ज्यादा नही होती है इस ग्रहण को भी हम इस धरती से हटा कर जाएंगे।

अखिलेश-मायावती को माल्यापर्ण की चुनौती

इसके अलावा राज्य मंत्री सपा-बसपा गठबंधन को खुली चुनौती देते हुए कहा की अगर अखिलेश यादव और मुलायम सिंह में दम हो और मायावती में हिम्मत हो तो बहराइच में जाकर महाराजा सुहेलदेव के गर्दन में माला पहनाकर दिखा दें। राज्यमंत्री यही नहीं रुके उन्होंने कह डाला की ये बनारस में जाकर चोरी से माला तो पहना सकते है मगर महाराजा सुहेलदेव की धरती पर उनका जो मंदिर बना है उसमे जो मूर्ति अमितशाह बनवाई है उस मूर्ति पर एक माला पहनकर दिखाए। मंत्री ने तंज कसते हुए कहा की जो आपके राजा को आपके महाराजा को एक माला नहीं पहना सकते वो आपका क्या भला कर पाएंगे।

Related posts