वाराणसी। घाटों पर विदेशी सैलानियों तक मादक पदार्थों की सप्लाई करने वाले एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश हुआ। क्राइम ब्रांच और लोहता थाने की पुलिस ने दो हेरोइन तस्करों को गिरफ्तार किया है। इन तस्करों के पास से लगभग तीन करोड़ रुपए का माल बरामद हुआ है। पुलिस को तस्करों की लंबे समय से तलाश थी।

नेपाल से होती थी हेरोइन की तस्करी

पुलिस की गिरफ्त में आए दोनों तस्करों ने बताया कि वे लोग बिहार और बाराबंकी के रास्ते नेपाल से हेरोइन, चरस और ब्राउन सुगर लाते थे। इसके बाद इसे पूर्वांचल के अलग-अलग जिलों में बेचा जाता था। खासतौर से वाराणसी तस्करों का बड़ा अड्डा था। गंगा किनारे घाटों पर घूमने वाले विदेशी सैलानियों को ये तस्कर खासतौर से माल की सप्लाई करते थे। इसके बाद विदेशी सैलानियों से मोटी रकम वसूलते थे। पुलिस के मुताबिक वाराणसी के अलावा जौनपुर, गाजीपुर, भदोही, चंदौली और मिर्जापुर के साथ ही आजमगढ़ में हेरोइन की सप्लाई होती थी।

नशे के खेल में रखे जाते थे एजेंट

पुलिस के मुताबिक हेरोइन तस्करी के लिए बकायदा फिक्स सैलरी पर एजेंट रखे जाते थे। बीच-बीच पुलिस के डर से इन एजेंटों को हटा भी दिया जाता था। पक़ड़े गए तस्कर नूर आलम और अजय सिंह के मुताबिक नेपाल का रहने वाला अल्ताफ इस रैकेट का मास्टर माइंड हैं। दोनों तस्कर अल्ताफ के कहने पर माल सप्लाई करते थे। भारत में मौजूद एजेंट इनके बैंक अकाउंट में पैसा डालते थे, इसके बाद उन्हें माल दिया जाता था। जानकारों के मुताबिक हेरोइन के इस खेल में कई सफेदपोश नेता भी जुड़े हैं।

admin

No Comments

Leave a Comment