वाराणसी। कानून-व्यवस्था की बदहाली की वास्ता देकर सत्ता में आयी भाजपा इस मोर्चे पर सफल होने का दावा करती है लेकिन आमजन क्या जनप्रतिनिधि तक खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। प्रदेश के भाजपा विधायकों को धमकी का मामला ठंडा नहीं पड़ा था कि पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र के पार्षदों को कुछ इसी तरह की धमकियां मिलने ेलगी। खास यह कि सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के संसदीय क्षेत्र की जेल से चर्चित अपराधी मोबाइल से फोन कर धमका रहा है। पिछले दिनों हुए एक दुस्साहसिक वारदात का वास्ता देते हुए फोन करने वाले ने अंजाम भुगतने की चेतावनी दी है। खास यह कि पूर्वांचल के एक चर्चित माफिया से जुड़े गुर्गों ने इस वारदात को अंजाम दिया था जिससे पार्षद सहमे हैं। भेलूपुर तथा दशाश्वमेध के पांच पार्षदों ने प्रदेश के राज्यमंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी को घटना की जानकारी देने के साथ प्राणरक्षा की गुहार लगायी है। राज्यमंत्री ने मामले की गंभीरता को देखते हुए एसएसपी आरके भारद्वाज और भाजपा पार्षदों की संयुक्त बैठक की। इसके बाद दशाश्वमेध थाने में रपट दर्ज कराने के साथ विवेचना क्राइम ब्रांच को सौंपी गयी है।

रंगदारी की हुई है मांग!

सूत्रों की माने तो भाजपा से जुड़े पांच पार्षदों को फोन कर धमकाते हुए धन की मांग की गयी है। पिछले दिनों हत्या की एक वारदात का वास्ता देते हुए चेताया है कि अंजाम ऐसा ही हो सकता है। मामला सत्तारूढ से जुड़ा होने के नाते क्राइम ब्रांच और सर्विलांस टीम की मदद ली जा रही है। विधायकों के बाद पार्षदों को धमकी देने के मामले की रिपोर्ट पीएमओ तक पहुंच चुकी है। भेजी गई है। बहरहाल पुलिस इन पार्षदों के मोबाइल में रिकॉर्ड का चर्चित अपराधी की आवाज का मिलान कर रही है। अलबत्ता पुलिस ने पार्षदों से इस घटना के बाबत किसी से चर्चा करने को मना किया है। घटनाक्रम को लेकर पार्षद सहमें हैं। विधायकों के मामले में तो एसआईटी तक का गठन हुआ था लेकिन यह प्रकरण तो एसटीएफ तक नहीं पहुंचा है।

admin

No Comments

Leave a Comment