सीएम से डीएम तक नहीं सुनी गयी ‘गुहार’ तो आत्मदाह के लिए आ धमका परिवार, फौरन जांचकर कार्रवाई के आदेश

जौनपुर। आम जनता की समस्याओं की सुनवाई के लिए मुख्यमंत्री के पोर्टर से लेकर दूसरे तमाम आयोजन हर पखवारे पर होते हैं। इनकी वास्तविकता क्या है इसका नमूना शुक्रवार को कलेक्ट्रेट परिसर में देखने को मिला। यहां पर पत्नी और बच्चे को लेकर पहुंचे डमरुआ गांव (सिकरारा) निवासी भानु प्रताप सिंह ने परिवार समेत खुद पर केरोसिन डालकर आत्मदाह का प्रयास किया। किसी तरह उसे काबू में किया गया जिससे आह नहीं लगा लगा सका लेकिन घटनाक्रम के चलते हडकंंम मच गयी। पीड़ित परिवार का आरोप था कि उसकी पैतृक भूमि को पट्टीदार हड़प लिये हंैै और हिस्सा नहीं दे रहे हैं।

एसडीएम को जांचकर कार्रवाई के निर्देश

घटना उस समय हुई जब डीएम अरविन्द मलप्पा रोजाना की तरह जनसुनवाई कर रहे थे। दंपती ने आला अधिकारियों के गुहार लगाने के बावजूद फरियाद नहीं सुनने का आरोप लगाया है। इसकी भनक पाते ही अधिकारियों के होश उड़ गए। पीड़ित का एक बार फिर आरोप दोहराया कि उसकी पैतृक भूमि पर उन्हीं के चाचा द्वारा उनका हिस्सा नहीं दिया जा रहा है । वह इसको लेकर वह सीएम के पोर्टल और उनके जनता दरबार से लेकर महीने में दोबार होने वाले थाना दिवस तथा तहसील दिवस में फरियाद लगा चुके हैं लेकिन वहां से कोई कार्यवाही नहीं हुई। इस बाबत डीएम का कहना है कि एसडीएम सदर को जांच कर रिपोर्ट देने का आदेश दिया गया है।

Related posts