गोरखपुर। सीएम बनने के बाद योगी आदित्यनाथ पांचवीं बार गोरखपुर पहुंचे हैं। योगी का ये गोरखपुर दौरा इस लिए भी खास है, क्योंकि सीएम बनने के बाद पहली बार गुरु पूर्ण्‍िामा महोत्सव में योगी शामिल हुए। गुरु पूर्णिमा पूजन के लिए गोरखनाथ मंदिर प्रबंधन ने पूरी तैयारी की है। बता दें, योगी ने गुरु पूर्णिमा के दिन की शुरुआत अपने गुरु महंत अवेद्यनाथ की प्रतिमा पर तिलक लगाकर की।

दो घंटे चला गुरु पूर्णिमा का कार्यक्रम

मंदिर प्रबंधन के मुताबिक गुरु पूजा का सिलसिला सुबह नौ बजे से शुरू हुआ। गोरखनाथ मंदिर के प्रधान पुजारी कमलनाथ ने सबसे पहले अपने गुरु महंत योगी आदित्यनाथ को रोली, दही एवं अच्छत का तिलक लगाया। उन्होेंने गुरु को 101 रुपये दक्षिणा अर्पित की। उनके बाद देश भर से आये करीब 40 संतों ने गुरु पूजा की। इन सभी ने अपनी परंपरानुसार अपने गुरु योगी आदित्यनाथ को दक्षिणा प्रदान की। संतों के बाद सामान्य शिष्यों की गुरु पूजा करीब दो बजे तक चली। इस प्रक्रिया के दौरान लोक गायक राकेश श्रीवास्तव गुरु महिमा पर केंद्रित भजनों का गायन करते रहे। गुरु पूजन के दौरान गुरु महिमा के मंत्रोच्चार से पूरा परिसर गूजा उठा। सुबह से ही आज मंदिर परिसर में फरियादियों की भीड आ जाने के कारण गुरु पूजा का कार्यक्रम देर से शुरू हुआ। प्रबंधन के मुताबिक सौ ऐसे लोगों को तिलक हाल में गुरु पूजन का अवसर दिया गया, जो सीधे तौर पर योगी की शिष्य परंपरा से जुड़े हुए हैं। बाकी भक्तों को हिंदू सेवाश्रम में गुरु दर्शन का अवसर मिला। बता दें कि गुरुपूर्णिमा पर यहां मेले जैसा माहौल नजर आता है, जो इस बार कुछ खास दिखा। पहले दिग्विजयनाथ और फिर अवेद्यनाथ पीठाधीश्वर के रूप में इस दिन लोगों को आशीर्वाद दिया करते थे। फिर उत्तराधिकारी के रूप में योगी आदित्यनाथ भी उनके साथ बैठने लगे। श्रद्धालु दोनों से आशीर्वाद लेते। विशाल भंडारे के साथ देर रात में इसका समापन होता था। महंत अवेद्यनाथ के ब्रह्मलीन होने के बाद पिछले साल गुरु पूर्णिमा के दिन पहली बार योगी ने पीठाधीश्वर के रूप में लोगों से दक्षिणा ली थी।

योगी के जनता दरबार में मची भगदड़, कई घायल

इन सबके बीच योगी ने जनता दरबार के लिए भी समय निकाला, जिसमें फरियादियों की जमकर भीड़ उमड़ी। योगी ने जनता के बीच जाकर फरियादियों की समस्याएं सुनी। दरअसल, योगी के गोरखपुर में होने की सूचना के बाद भारी संख्या में लोग उनसे मिलने गोरखनाथ मंदिर पहुंच गए। जहां बैरिकेडिंग लगाकर उन्हें रोका गया था। इसी बीच योगी अपने भवन से निकलकर हिन्दू सेवाश्रम जा रहे थे। तब रास्ते में बैरिकेडिंग के पास खड़े लोग उन्हें अपने शिकायती पत्र देने लगे। इस बीच बैरिकेडिंग पर दबाव बढ़ा और वो टूट गया, जिस वजह से कई लोग गिर पड़े और घायल हो गए।

admin

No Comments

Leave a Comment