गोरखपुर। पत्नी की हत्या के आरोपित अमनमणि त्रिपाठी बीजेपी को ज्वाइन करने का रास्ता खोज रहे हैं। जेल में बंद रहने के दौरान ही अमनमणि ने निर्दल चुनाव लड़ा था और बहनों के चुनाव प्रचार की बदौलत जीत हासिल की। अब अमनमणि सत्ता के करीब पहुंचना चाहते हैं। रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जब गोरखपुर पहुंचे तो अमनमणि ने उन्हें बुके भेंट किया और चरण छूकर आशीर्वाद लिया। वे हिंदू युवा वाहिनी के सदस्यों की मीटिंग में भी शामिल होना चाहते थे, लेकिन उन्हें बाहर ही रोक दिया गया।

बीजेपी में शामिल होने के सवाल पर अमनमणि ने कहा कि अगर महाराज जी का आशीर्वाद रहा तो जल्द ही पार्टी ज्वाइन कर लूंगा। अमनमणि लगातार सीएम योगी से मिलने की कोशिश कर रहे थे। इससे पहले, उन्होंने शनिवार को गोरखपुर यूनिवर्सिटी कैम्पस में ऑर्गनाइज प्रोग्राम में सीएम का बुके देकर वेलकम किया और पैर छूकर आशीर्वाद लिया था। आदित्यनाथ जब पहली बार 25 मार्च को गोरखपुर आए थे तो उनके वेलकम में अमनमणि और उनके पिता बाहुबली पूर्व मंत्री अमरमणि त्रिपाठी के नाम के पोस्टर गोरखपुर की हर सड़क पर नजर आए थे। यूपी असेंबली इलेक्शन में 11 मार्च को हुई वोटों की काउंटिंग के दूसरे दिन अमनमणि अपनी बहन और सहयोगियों के साथ गोरखनाथ मंदिर पहुंचे थे। गुरु गोरक्षनाथ की पूजा अर्चना के पहले उन्होंने पीठाधीश्वर और सीएम आदित्यनाथ का पैर छूकर आशीर्वाद लिया था। उस वक्त अमनमणि ने कहा था कि मंदिर हिन्दू धर्म की आस्था का केंद्र है, इसीलिए उन्होंने यहां आकर पूजा अर्चना की और पीठाधीश्वर आदित्यनाथ का आशीर्वाद भी लिया।

admin

No Comments

Leave a Comment