गोल्ड मेडलिस्ट पूनम यादव के करियर पर मंडराया ग्रहण, परेशान परिजनों ने लगाई गुहार

वाराणसी। हाल ही में गोल्ड कोस्ट में आयोजित कॉमनवेल्थ में गोल्ड मेडल जीतने वाली बनारस की बेटी वेटलिफ्टर पूनम यादव को अनुशासनहीनता और गैरजिम्मेदाराना रवैये के कारण भारोत्तोलक महासंघ ने उसे टॉप्स (टारगेट ऑफ पोडियम स्कीम) से बाहर कर दिया है। जिसके बाद उसके घर पर मायूसी का आलम है।  हालांकि पूनम के पिता और उसकी बड़ी बहन एसोसिएशन के इस फैसले से संतुष्ट नहीं हैं और पूनम की गलती पर माफी मांगते हुए उसे एक मौका देने की अपील कर रहे हैं।

मुश्किल में पूनम, परेशान परिवार

ऑस्ट्रेलिया के गोलकोस्ट में पूनम यादव कॉमनवेल्थ में जीत के बाद बिना सूचना के ही कैंप से गायब है। जिसे लेकर फेडरेशन ने इस मामले में जब जवाब मांगा गया तो उसका जवाब भी संतोषजनक नहीं था। इसी आधार पर अब उसे फेडरेशन ने कोर ग्रुप से बाहर किया गया है।इस फैसले के बाद फेडरेशन की तरफ से पूनम को मिलने वाली सभी सुविधाओं पर रोक लगा दी गई है। इसके साथ ही अब पूनम के ओलंपिक और एशियन गेम्स की संभावनाएं भी पूरी तरह से समाप्त हो चुकी है। महासंघ की तरफ से पूनम को लेकर इस फैसले से उसके पिता कैलाश नाथ यादव और बहन ऑन नेशनल वेटलिफ्टर शशि यादव का कहना है कि पूनम को जो नोटिस फेडरेशन की तरफ से भेजा गया था। जिसके इंग्लिश में होने की वजह से हम लोग उसे समझ नहीं सके हम सोचे यह कोई नॉर्मल लेटर होगा लेकिन हमें यह जरा भी अंदाजा नहीं था कि यह फेडरेशन की तरफ से पूनम को भेजा गया नोटिस है, इसलिए हम अपनी गलती के लिए माफी मांग रहे हैं और यह अपील कर रहे हैं कि इस गलती की पूनम को इतनी बड़ी सजा ना दी जाए। यह उसके करियर की शुरुआत है यदि उसके साथ अभी कुछ भी गलत होता है तो पूरी मेहनत पर पानी फिर जाएगा। वहीं उनके पिता भी इसी बात को दोहरा रहे हैं और अपनी और बेटी की तरफ से ठीक है गलती पर फेडरेशन से माफी मांग कर उसे एक और मौका देने की अपील कर रहे हैं।

Related posts