आजमगढ़। चंदौली में तैनात सिपाही संतोष यादव की हत्या की साजिश किसी और ने नहीं बल्कि उसकी प्रेमिका ने अपने घरवालों के संग मिल कर रची थी। संतोष ने पहले तो शादी का वादा किया था लेकिन घरवालों ने उसका विवाह कहीं और तय कर दिया तो प्रमिका से दूरी बनाने लगा। योजना के तहत प्रेमका ने संतोष को बुलाया और फावडेÞ के काट कर मौत का घाट उतार दिया। अहरौला थाना क्षेत्र में शनिवार को सिपाही की हत्या से सनसनी फैल गयी थी लेकिन पुलिस ने 24 घंटे के अंदर मामले का खुलासा करते हुए प्रेमिका को गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले में आरोपित घर के चार सदस्य पुलिस की पकड़ में नहीं आये हैं। एसपी अजय साहनी के मुताबित सिपाही की हत्या प्रेम प्रसंग में हुई थी। प्रेमिका समेत परिवार के अन्य सदस्यों ने मिलकर घटना को अंजाम दिया था।

संतोष के फोन से मिले सुराग

एसपी ने बताया कि सिपाही संतोष यादव के फोन की कॉल डिटेल कंघाली गयी थी। अतिम कॉल पर शक के आधार पर प्रेमिका को उठाया गया और जब पूछ ताछ की गयी तो उसने सब कुछ कबूल कर लिया। प्रेमिका ने बताया की हम दोनों एक दूसरे से प्रेम करते थे लेकिन संतोष के परिजनों ने उसका विवाह किसी दूसरी लड़की से तय कर दिया। इसकी जानकारी मिलने पर जब हमने संतोष से बात किया तो संतोष ने शादी के लिए मना कर दिया। रिश्ते के बारे में घरवालों को भी जानकारी थी। हमने अपने परिवार के लोगों के साथ मिलाकर संतोष की हत्या कर दिए। मामले का खुलासा कर दिया गया है और दूसरे चार आरोपियों को भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

चुनौती के रूप में लिया था हत्या को

सिपाही की हत्या के बाद पुलिस पर सवाल उठने लगे थे जिसके बाद एसपी अजय साहनी ने इसे चुनौती के रूप में लेते हुए एसपी ग्रामीण नरेंद्र प्रताप सिंह के नेतृत्व में टीम गठित की थी। अहरौला क्षेत्र के दम दमदिवना गांव में घर पर छुट्टी पर आए सिपाही संतोष यादव की घर से कुछ दूर पर सिवान में धारदार हथियार से प्रहारकर हत्या कर दी गई और उसकी लाश अरहर के खेत में फेंक दी गई। मृतक संतोष यादव 2011 में सिपाही के पद पर तैनात हुआ था वर्तमान में चकिया (चंदौली) में तैनात था। कुछ दिन पहले वह घर आया था और रविवार को ड्यूटी पर जाने वाला था।

admin

No Comments

Leave a Comment