सुजीत सिंह प्रिंस

गाजीपुर। महुआ चैनल के मालिक विजय शंकर तिवारी और प्रमुख व्यवसायी रिंकू अग्रवाल के बीच मकान को लेकर चल रहे विवाद में अब नया मोड़ आ गया है। एक ओर श्री तिवारी के पक्ष में बीजेपी विधायक कमलेश शुक्ला जहां मौके पर पहुंचे थे तो वहीं रिंकू अग्रवाल को जिले के एक कद्दावर पूर्व मंत्री का साथ मिला। पूर्व मंत्री पूरे लाव लश्कर के साथ बुधवार की शाम को विवादित मकान पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने रिंकू अग्रवाल से काफी लंबी बात की। हाईप्रोफाइल मामले में पूर्व मंत्री की इंट्री के बाद चर्चाओं को पंख लग गए हैं।

क्या है पर्दे के पीछे की पूरी कहानी ?

रिंकू अग्रवाल को पूर्व मंत्री का बेहद करीबी कहा जाता है। सत्ता में रहने के दौरान पूर्व मंत्री ने रिंकू अग्रवाल की काफी मदद की थी। खबरों के मुताबिक विवाद की भनक के बीच पूर्व मंत्री ने सुबह से शहर में डेरा डाल दिया था। वो अपने मकान में जमे थे और पल-पल की खबर ले रहे थे। मामला चूंकि मीडिया तक पहुंच गया, लिहाजा घटना के वक्त पूर्व मंत्री तो नहीं पहुंचे लेकिन इसके बाद शाम को उन्होंने रिंकू अग्रवाल से जरूर मुलाकात की। इस बीच शहर में इस बात को लेकर चर्चा होती रही कि पर्दे के पीछे पूर्व मंत्री की क्या भूमिका है ? हाईप्रोफाइल विवादित इस मामले में पूर्व मंत्री क्यों रुचि ले रहे हैं ? रिंकू अग्रवाल को सपोर्ट करने के पीछे पूर्व मंत्री की क्या मंशा है ? ऐसे कई सवाल रहे जिसे लेकर पूरे दिन चर्चा होती रही। सूत्रों के मुताबिक विवादित मकान में पूर्व मंत्री का भी इंवेस्ट है, यही कारण है कि पूर्व मंत्री इस मामले को लेकर सक्रिय हैं।

 

admin

No Comments

Leave a Comment