आजमगढ। दुष्कर्म के मामलों को लेकर एक तरफ केन्द्र और प्रदेश सरकार नित नये कानून बना रही है तो दूसरी तरफ इसका कोई असर नहीं होते दिख रहा है। ऐसा प्रतीत होता है कि अपराधियों को कानून व्यवस्था की कत्तई परवाह नहीं है। ताजा मामला सरायमीर का है जहां पिछले साल चार युवकों ने युवती के साथ गैंगरेप किया। जमानत पर छूट कर आने के बाद पीड़िता के परिवार से सुलह का दबाव बनाया। इनकार करने पर आरोपितों ने पीड़िता और उसके घर के दो सदस्यों को पीटकर जख्मी कर दिया। घायलों में पीड़िता समेत दो लोगों की हालत गंभीर है जिस पर डाक्टर ने जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। शेष अन्य का वहीं पर इलाज चल रहा। इस बाबत सीओ फूलपुर रविशंकर प्रसाद ने बताया कि आरोपियों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कर उनकी तलाश की जा रही है।

पिछले साल की वारदात, चार थे गिरफ्तार

सरायमीर के एक गांव की रहने वाली युवती के संग 2 अगस्त 2017 को गांव के ही सूरज, सुरेंद्र, रोहित तथा अमरजीत सिंह ने दुष्कर्म किया था। पुलिस ने नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया थी। महीनों बाद जमानत पर छूटकर घर आए आरोपित मुकदमे में पीड़िता के घरवालों से सुलह-समझौते का दबाव बना रहे थे। इससे इंकार करने पर मंगलवार की रात पीड़िता किसी काम से घर से बाहर जा रही थी तभी आरोपितों ने घात लगा कर हमला कर दिया। बचाव की गुहार सुनकर परिवार के अन्य सदस्य उसे बचाने आए तो मनबढ़ युवकों ने उन पर भी हमला कर जख्मी कर दिया। हमले में पीड़िता सहित परिवार के 6 लोग घायल हो गए। पुलिस के आने से पहले आरोपित फरार हो चुके थे।

admin

No Comments

Leave a Comment