गंगा यात्रा की हुई शुरुआत, बलिया में गवर्नर आनंदी बेन पटेल ने दिखाई हरी झंडी

वाराणसी। बहुप्रतीक्षित गंगा यात्रा का उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के दुबे छपरा घाट पर शंखनाद और विधिवत आरती-पूजन के साथ ही प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने शुभारंभ किया। उनके साथ बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी और केंद्रीय मंत्री महेंद्र पाण्डेय भी थे। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि मंगल पांडेय की पवित्र धरती बलिया नमन करती हूं। उन्होंने आगे कहा कि गंगा अब केवल पाप नहीं धोएंगीं, बल्कि आर्थिक रूप से मजबूत बनाकर खुशहाल भी बनाएंगी। अब गंगा किनारे बसे गांव के युवाओं के लिए कई रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।

राज्यपाल आनंदी बेन ने की विधिवत पूजा
गंगा किनारे गावों में अब केवल आर्गेनिक खाद ही यूज किया जाएगा। इसके साथ ही राज्य से लेकर केंद्र सरकारों तक ने गंगा किनारे के गांवों में विकास की कई योजनाएं शुरू करने का प्लान बनाया है और उन्हें शुरू भी करा दिया गया है, इससे गांव के लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। राज्यपाल जिले के दुबे छपरा के पास गोपालपुर गांव में गंगा यात्रा के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रही थीं। इसके पहले उन्होंने गंगा का विधिवत पूजन किया और गंगा आरती के बाद नौकायन प्रतियोगिता को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।
बागी बलिया को किया सलाम
राज्यपाल आनंदबेन पटेल ने अपने भाषण की शुरूआत भारत माता और मां गंगे के जयकारे से की। उन्होंने कहा कि बलिया की इस ऐतिहासिक धरती पर दूसरी बार आने का सौभाग्य मिला है, आज फिर क्रांतिकारियों, तपस्वी और वीरों की इस धरती को नमन करती हूं।इसके बाद मूल विषय पर आते हुए पटेल ने कहा कि मैं जिस प्रदेश से आती हूं, जहां सिर्फ एक नदी बहती है नर्मदा, लेकिन उत्तर प्रदेश तो नदियों के मामले में काफी धनी है। यहां कोई ऐसा जिला नहीं जहां कोई न कोई नदी नहीं बहती हो। अब नदियों को बचाना होगा, क्योंकि ये काफी प्रदूषित हो गई हैं।

Related posts