फैजाबाद। पिछले विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा ने जिन दांव को सत्ता हासिल करने के लिए अपनाया था विपक्ष में आने के एक साल होने पर सपा भी आजमा रही है। यह बात दीगर है कि इसकी खातिर जो नाम इस्तेमाल हो रहे हैं उससे समूचा कार्यक्रम विवादों से घिर जा रहा है। कुछ ऐसा ही मंजर माया बाजार में शुक्रवार को देखने को मिला जहां प्रदेश में खराब कानून व्यवस्था व महंगाई के खिलाफ सपा ने धरना दिया। पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा का कानून-व्यवस्था प्रमुख मुद्दा था। खास यह कि हत्या, वसूली समेत आईपीसी की संगीन धाराओं के आरोपित पूर्व विधायक अभय सिंह के नेतृत्व में समूचा कार्यक्रम आयोजित था। अभय को न सिर्फ पूर्वांचल के माफिया डॉन मुख्तार अंसारी का करीबी कहा जाता है बल्कि पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर वाराणसी कातिलाना कहने के अलावा शक होने पर एक आला पुलिस अफसर की गाड़ी रोक कर चेकिंग कराने सरीखे आरोप लग चुके हैं।

ललई का आरोप, जाति के आधार पर हो रहे काम

धरने में सपा के पूर्व मंत्री और शाहगंज के विधायक ललई यादव ने कहा सपा के सभी योजनायें भाजपा ने द्वेष के कारण सब बंद कर दी है। जाति के आधार पर आम जनमानस को अपमानित करने का काम कर रही भाजपा सरकार, जाति के आधार पर मुकदमे लिखे जा रहे है। प्रदेश का हर कोना जल रहा है। उन्नाव के पीड़ित को अपने न्याय के लिये एक वर्ष लग गया फिर भी कोई बात तक सुनने वाला नहीं रहा और जब बात मुख्यमंत्री तक पहुंची तब उसके पिता की हत्या कर दी गयी। भाजपा सरकार में बेटियों को न्याय पाने के लिये अपने पिता की जान गंवानी पड रही है। संविधान को बचाना है, भाजपा को हटाना होगा, देश के आपातकाल जैसा माहौल पैदा हो गया है।

इनकी भी रही मौजूदगी

इस मौके पर नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी, पूर्व मंत्री राममूर्ति वर्मा, अवधेश प्रसाद पूर्व मंत्री, पूर्व राज्यमंत्री पवन पांडे, पूर्व मंत्री आनंदसेन यादव,एमएलसी लीलावती कुशवाहा, एमएलसी हीरालाल यादव, जिला अध्यक्ष गंगा सिंह यादव, अनूप सिंह आदि शरीक हुए। यहां पर मुख्य अतिथि नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने बयान दिया की प्रदेश में भाजपा सरकार आते ही हत्या बलात्कार लूट डकैती की घटनाएं बढ़ गयी है। वारदातों में भाजपा के लोग ही शामिल है। भाजपा सरकार से बाहर होती है तब उसे याद आते हैं भगवान राम, सत्ता में आते ही मन से हट जाते हैं भगवान राम। भगवान राम का उपहास कर रही है भाजपा सरकार।

admin

No Comments

Leave a Comment