चंदौली। इसे दुस्साहस की पराकाष्ठा समझा जा सकता है। डॉन बृजेश सिंह के भतीजे, तीन बार के विधायक सुशील सिंह को धमकी देकर रुपये की मांग की जाये। बावजूद इसके कि लोग विश्वास न करे लेकिन यह सच है। धमकी देने वाला साइबर क्राइम करने वाला बैकर था जिसने पहले तो विधायक की फेसबुक आइडी हैक की और इस पर आपत्तिजनक मैसेज डालकर उनका राजनैतिक करियर तबाह करने की धमकी तक दे डाली। ऐसा न करने की खातिर उसने मोटी रकम की मांग की। साथ ही चेताया कि मांग पूरी न करने पर वह धमकी को हकीकत में बदल कर दिखा देगा। सूत्रों की माने तो कुछ धन देकर मामले को रफा-दफा करने का प्रयास किया गया लेकिन पानी सिर के उपर से गुजरता देख विधायक तेवर में आ गये। अपने ‘सम्पर्को’ का इस्तेमाल करते हुए जिला पुलिस ही नहीं प्रदेश से लेकर पश्चिम बंगाल एसटीएफ तक की मदद ली जिसका नतीजा रहा कि धमकी देने वाले को कोलकाता में दबोच लिया गया। एसपी चंदौली संतोष कुमार सिंह ने स्वीकार किया है कि धमकी देने वाले की कोलकाता में गिरफ्तारी हो चुकी है। जल्द ही वारंट बी लेकर पुलिस जायेगी और आरोपित को लेकर आयेगी।

खुद फोनकर विधायक को दी थी जानकारी

घटनाक्रम कुछ यूं रहा कि सैयदराजा के भाजपा विधायक सुशील सिंह के मोबाइल पर 20 अप्रैल को किसी अनजान व्यक्ति का फोन आया। विधायक उस समय लखनऊ से लौट रहे थे। काल रिसीव करने पर फोन करने वाले ने फेसबुक पेज हैक करने की जानकारी देते हुए धन की मांग की। विधायक ने धन की मांग सुनने के बाद डांट दिया। बाद में पता चला कि सच में फेसबुक हैक हो चुका है। पानी सिर से गुजरता देख विधायक भी तेवर में आ गये और एसटीएफ से लेकर सम्पर्कों को इसकी जानकारी दी। जांच से पता चला कि कॉल कोलकाता से की गयी थी। कोतवाली चंदौली में मुकदमा कायम कराने के साथ आरोपित की तलाश आरम्भ की गयी।

पहले भी कर चुका है वसूली

कोलकाता में एसटीएफ और पुलिस के संयुक्त आपरेशन में गिरफ्तार आरोपित की उम्र महज 21 साल से अधिक नहीं है। आरम्भिक पूछताछ में उसने पहले भी इस तरह साइबर क्राइम कर उगाही करना कबूल किया है। गौरतलब है कि सुशील सिंह के रिश्ते में मामा लगने वाले अर्जुन सिंह पश्चिम बंगाल की सत्ता पर काबिज टीएमसी के विधायक होने के संग उत्तर प्रदेश् और बिहार के प्रभारी हैं। संभवत: उन्होंने अपनी तरफ से भी प्रयास किये जिसका नतीजा इतनी जल्द गिरफ्तारी के रूप में सामने आया।

admin

No Comments

Leave a Comment