चार साल की मासूम का गला घोंटकर ले ली जान, क्षेत्र में कोहराम लेकिन स्पष्ट नहीं हुआ कि किसका काम

आजमगढ़। तिहरा गांव (मेहनाजपुर) निवासी राम प्रसाद मौर्या के साथ पूरा परिवार मंगलवार की शाम से खासा परेशान था। वजह, उनकी चार साल की मासूम पुत्री आदिति खेलने के लिए निकली थी लेकिन इसके बाद से उसका कोई पता नहीं चल पा रहा था। बुधवार की सुबह घर से कुछ दूरी खंडहर में अदिति का शव मिलने के बाद कोहराम मच गया। मासूम बच्ची की बेरहमी से गला घोंटकर हत्या करने के बाद लाश फेंकी गई थी। पुलिस ने बच्ची की लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेजने के बाद इसकी जांच-पड़ताल में जुट गई है। दिल दहलाने वाली इस वारदात के बाद मां-बाप का रो-रो कर बुरा हाल है। उनका कहना है कि किसी से रंजिश नहीं हैं

बड़ी बेटी ननिहाल में रहकर पढ़ती है

बताया जाता है कि राम प्रसाद मौर्य की दो बेटियों में बड़ी बेटी छह साल की दीक्षा व छोटी अदिति थी। दीक्षा अपनी ननिहाल में रह कर पढ़ाई कर रही है। छोटी अदिति अपने मां-बाप के संग रहती थी। मंगलवार की शाम को खेलते-खेलते गायब होने के बाद परिजनों ने बहुत खोजने का प्रयास किया लेकिन उसका कहीं पता नहीं चला। इसके बाद घरवालों ने उसकी गुमशुदगी की तहरीर मेहनाजपुर थाने में दी। बुधवार की सबेरे घर के पास मौजूद एक खंडहर में अदिति का शव बरामद हुआ। अदिति के गले पर दुपटटे से गला घोंटकर हत्या करने के निशान साफ दिखाई दे रहे थे। मासूम बच्ची की बेरहमी हत्या की खबर से गांव में हड़कंप मच गया। हर कोई के जबान पर यही सवाल है कि आखिर इससे किसी की क्या दुश्मनी थी जो इस तरह से जान ली।

Related posts