भदोही। जनपद में भाजपा के कद्दावर नेता और पूर्व सांसद गोरखनाथ पांडेय को कोर्ट से करारा झटका लगा है। उनके पुत्र आनंद पांडेय समेत चार आरोपितों को जिला न्यायालय ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई। तीन साल पहले हुए इस सनसनीखेज मामले में जमानत कराने के बाद आरोपित बाहर चल रहे थे लेकिन पीड़िता के प्रार्थनापत्र पर हाईकोर्ट के सख्त रुख अख्तियार करने के बाद दोबारा जेल की सलाखों के पीछे जाना पड़ा था। एडीजे चंद्रशेखर प्रसाद की अदालत ने चारों आरोपितों को 50-50 हजार रुपये के अर्थदंड से दंंडित किया है। अर्थदंड अदा न करने पर अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी। फैसला की जानकारी मिलने के बद जिले के राजनैतिक माहौल में खलबली मच गयी। गोरखनाथ पाण्डेय बसपा को अलविदा कर भाजपा में शामिल हो चुके हैं और लोकसभा टिकट के संंभावित दावेदारों में थे।
मामले को लेकर हाईकोर्ट ने अपनाया था सख्त रुख
अभियोजन के मुताबिक कोइरौना थाना अंतर्गत एक गाँव में 16 वर्ष की नाबालिग घर से शौट के लिए गयी थी। सुनसान स्थान पर पीड़िता को देखकर अरविंद उर्फ टिंकू सिंह और विकास मिश्रा उर्फ वीके मोटरसाइकिल से पहुंचे और उसे जबरन अपने साथ बैठा कर ले गये। आरोप है कि आनंद पाण्डेय के फार्म हाउस पर किशोरी के साथ गैंगरेप किया गया जिसमें आशीष कुमार सिंह उर्फ पिंटू भी शामिल थे। सामूहिक दुष्कर्म के चलते पीड़िता बेहोश हो गयी तो उसे गांव के पास मरा समझ कर फेंक कर आरोपित फरार हो गये। मश्क्कत के बाद रिपोर्ट दर्ज हुई लेकिन जमानत करा कर आरोपित बाहर आ गये। परिवार के साथ गवाहों को धमकियां मिलने की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए हाईकोर्ट ने तत्काल सभी को गिरफ्तार करने के संग मामले के निस्तारण के आदेश दिये। आदेश का असर रहा कि तीन माह में फैसला आ गया।
सितारे गर्दिश में चल रहे गोरखनाथ के
गोरखनाथ पाण्डेय भाजपा के पुराने नेताओं में रहे हैं। ज्ञानपुर से वह विधायक भी रह चुके हैं। इसके बाद वह बसपा में शामिल हो गये और पार्टी के टिकट पर सांसद चुने गये। पिछले कुछ दिनों से उनके सितारे गर्दिश में चल रहे हैं। पहले कालेज की जमीन का मामला प्रकाश में आया जिसमें सरकारी भूमि पर कब्जे का आरोप लगा। इसकी जांच चल रही थी कि बेटे को गैंगरेप में उम्रकैद हो गयी। लोकसभा चुनाव में उनके लिए जबरदस्त लाबिंग चल रही थी और ब्राम्हण चेहरा बताते हुए टिकट का दावेदार बनाया गया था।

admin

No Comments

Leave a Comment