बहुचर्चित रागिनी हत्याकांडके चारो आरोपितों को उम्रकैद के संग 50-50 हजार जुर्माना, एक का मामला अटका

बलिया। दो साल पहले बहन केसाथ पढ़ने जा रही रागिनी तिवारी की चाकुओं के गोद कर क्रूरता पूर्वक हत्या के मामले में शुक्रवार को कोर्ट ने फैसला सुना दिया है। बहुचर्चित कांड  में चार अभियुक्तों को आजीवन कारावास  के साथ 50-50 हजार रुपये अर्थदंड से दंडित किया गया है। जुर्माना अदा न करने पर अतिरिक्त सजा काटनी होगी। इस मामले के एक अन्य अभियुक्त का मामला नाबालिक कोर्ट में चल रहा जिस पर अभी फैसला नहीं आया है।

क्या था मामला

गौरलब है कि 8 अगस्त  2017को रागिनी (16) अपनी सगी बहन के साथ स्कूल पढ़ने जा रही थी। ग्रामप्रधान कृपाशंकर तिवारी के बेटे आदित्य तिवारी उर्फ प्रिंस नेअपने दोस्त नीरज तिवारी, सोनू तिवारी और राजू यादव के साथ मिलकर सरेराह चाकुओं से गोंद कर हत्या कर दी। वादी बजहांगांव (बांसडीह रोड) निवासी जितेंद्र कुमार दुबे ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। अभियोजन की तरफ से इस मामले में 12गवाहों को परीक्षित किया गया था। अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने और साक्ष्य के अवलोकन के बाद आरोपितों को दोषी मानते हुए सजा सुनायी। 

Related posts