वाराणसी। शुगर मिल के किसानों के बकाये मामले में सपा नेता और चंदौली के पूर्व सांसद जवाहर जायसवाल को आंशिक राहत मिली है। एसडीएम पड़रौना अजय प्रताप सिंह ने स्वीकार किया कि मंगलवार को 3.92 करोड़ जमा करने पर उनके रमाडा होटल और जेएचवी मॉल की नीलामी टल गयी है लेकिन पूरी रकम जमा करने की खातिर सिर्फ तीन सप्ताह की मोहलत दी गयी है। इसके लिए जवाहर के लालपुर स्थित कोठी की दस गाटे में 4.79 हेक्टेयर जमीन को कुर्क कर लिया गया है। नियत समय में धनराशि न जमा करने पर इसे नीलाम कर अवशेष धनराशि वसूल की जायेगी। प्रशासनिक कार्रवाई के दौरान जवाहर जायसवाल के भाई विजय जायसवाल व हीरा जायसवाल के अलावा उनके पुत्र मौजूद थे।

शासन से मानीटरिंग को लेकर बैकफुट पर करीबी

सपा के शासनकाल में पूर्व सांसद ने पड़रौना की शुगर मिल संचालन की खातिर ली थी लेकिन बाद में इसे बंद कर दिया। गन्ना किसानों का संचालन करने वाले जवाहर जायसवाल पर 46 करोड़ 75 लाख 92 हजार बकाया है। इसे लेकर काफी दिनों से कागजी कार्रवाई चल रही थी। प्रकरण में उस समय नया मोड़ आ गया जब बकाये को लेकर दाखिल दाचिका पर हाईकोर्ट ने सख्त रुख अख्तिायर किया। उधर सीएम योगी से भी शिकायत की यी जिसके बाद पंचम तल से प्रकरण की मानीटरिंग शुरू हुई। कार्रवाई के क्रम में सोमवार को एसडीएम पड़रौना के नेतृत्व में पहुंची प्रशासनिक टीम ने स्थानीय अधिकारियों से सम्पर्क किया। वसूली को लेकर पूर्व सांसद से बातचीत हुई जिसके बाद दोनों स्थानों पर वसूली का नोटिस चस्पा कर दिया। बकाया जमा करने को उन्हें 24 घंटे की मोहलत दी गई थी।

लटक रही कार्रवाई की तलवार

विदेशी यात्रियों की मौजूदगी के चलते रमाडा को सील नहीं किया गया था लेकिन चेतावनी दी गयी थी कि मंगलवार शाम तक पैसे जमा नहीं किए गए तो होटल सील कर दिया जाएगा। एसडीएम पड़रौना ने स्वष्ट किया कि दो आरसी जारी थी। एक की रकम जमा हो चुकी है और दूसरे के लिए मोहलत दी गयी लेकिन इसके एवज में लालपुर स्थित अन्य संपत्तियां अटैच कर गयी है। नियत समय में रकम न चुकाने पर उनकी भी नीलामी की जाएगी।

admin

No Comments

Leave a Comment