जौनपुर। ब्लॉक प्रमुख खुटहन सरयू देवी के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लेकर सियासत तेज हो गई है। सोमवार को हिंसक बवाल के बाद दर्ज हुए मुकदमे को लेकर पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने जिलाधिकारी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्रा पर गंभीर आरोप लगाए हैं। धनंजय सिंह के मुताबिक डीएम के सामने खुलेआम लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाई गई। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि जिस काफिले में चुने गए बीडीसी सदस्यों को किडनैप करके चुनाव स्थल पर लाया जा रहा था, उसकी अगुवाई खुद डीएम महोदय कर रहे थे।

 

दबाव में दर्ज किए गए संगीन मुकदमे

अमृत प्रभात डॉट कॉम से विशेष बातचीत में धनंजय सिंह ने बताया कि अविश्वास प्रस्ताव के दौरान हिंसक बवाल से कोई वास्ता नहीं है। प्रशासन जानबूझकर उन्हें फंसाने की साजिश कर रही है। उन्होंने कहा कि घटना के बाद डीएम खुद कैमरे के सामने शांति भंग की धाराओं के तहत कार्रवाई की बात कर रहे थे, लेकिन दबाव के तहत उनपर संगीन धाराएं लाद दी गई। आपको  बता दें कि खुटहन थानाध्यक्ष राममूर्ति यादव की तहरीर पर पूर्व सांसद धनन्जय सिंह, शाहगंज विधायक व पूर्व मंत्री शैलेन्द्र यादव ललई, एमएलसी बृजेश सिंह प्रिंसू सहित आठ नामजद एवं डेढ़ सौ अज्ञात लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

तीन अलग मामले दर्ज किये गये हैं मुकदमे

संगीन वारदात में तहरीर देने के बावजूद रपट न दर्ज करने का आरोप झेलने वाली पुलिस ने अपनी तरफ आईपीसी की धारा 147, 148, 149. 34, 323, 307, 332, 353, 395, 504, 506, 435, 427 के अलावा 7 सीएल एक्ट के तहत विभिन्न धारायें लगायी गयी हैं। सीओ शाहगंज अवधेश शुक्ल ने बताया कि अराजकता फैलाने में पूर्व सांसद धनंजय सिंह व विधायक ललई का प्रमुख रोल रहा है। पुलिस ने मामले को स्वत संज्ञान में लिया गया है।

admin

No Comments

Leave a Comment