चंदौली। पुलिस-प्रशासन के तमाम दावों के विपरीत हौसला बुलंद माफियाओं ने मंगलवार की रात वन विभाग की टीम पर फायर झोंक दिया। पहाड़ पर खनन की सूचना पर पहुंचे छित्तमपुर वन ब्लाक (चकिया) में वनकर्मी पहुंचे थे। अचानक हुए हमले से वन विभाग की टीम बाल-बाल बच गयी लेकिन वनकर्मी दहशत में आ गए। हालांकि बाद में वन विभाग की टीम ने आत्मरक्षा में फायर कर माफियाओं को पीछे धकेल दिया। खनन माफिया की तरफ से 8 राउंड फायर किये गये थे जबकि वन विभाग ने भी जवाब में चार राउंड चलाये। -पत्थर लदी ट्रैक्टर व ट्राली को छोड़कर खनन माफिया वहां से भाग निकले। शर्मनाक यह भी रहा कि सूचना दिये जाने के तीन घंटे बाद मौके पर पुलिस पहुंची। लोडेड ट्राली व ट्रैक्टर को जब्त करते हुए मुकदमा कायम कर आरोपितों की तलाश की जा रही है।

त्वरित कार्रवाई से भागे खनन माफिया

चकिया कोतवाली क्षेत्र के छित्तमपुर वन ब्लाक के आरक्षित पहाड़ी पर रात के समय पत्थर खनन की सूचना रेंजर ताराशंकर यादव को मिली थी। रात में वन विभाग की दो टीमें गठित कर रेंजर ने खनन माफियाओं की घेराबंदी की। खुद को घिरता देख माफियाओं ने वन विभाग की टीम पर फायर झोंक दिया। वन माफियाओं के खतरनाक तेवर को देख रेंजर ने कोतवाली पुलिस को इत्तला दी। लेकिन पुलिस को महज 12 किलोमीटर की दूरी तय करने में 3 घंटे लग गए। पुलिस पहुंचती इससे पहले ही वन विभाग की जबावी फायरिंग से डर कर खनन माफिया ट्रैक्टर ट्राली पर लदे पत्थर पटिया को छोड़कर भाग गए। वन कर्मियों ने ट्रैक्टर को कब्जे में लेकर सीज कर दिया।

admin

No Comments

Leave a Comment