भदोही। कहा जाता है कि प्रेम का खुमार जिस तेजी से चढ़ता है उससे तेज से उतरता भी है। अक्सर ऐसे मामलों में प्रेमिका की हत्या के मामले सामने आते हैं लेकिन भदोही में जो कुछ हुआ उस पर सहसा विश्वास करना मु्श्किल था। उचेठा (औराई) में 19 फरवरी की रात मिली अज्ञात लाश के मामले का क्राइम ब्रांच ने आरोपितों को पकड़ा तो लोग सकते में रह गये। एसपी सचिन्द्र पटेल ने सिलसिलेवार ढंग से पूरी दास्तान बतायी। डेढ़ दशक पहले मृतक सुधीर दीक्षित ने ब्यूटी पार्लर संचालिका सोनिया के प्रेम में पड़ कर विवाह ही नहीं किया बल्कि पैतृक संपत्ति बेचकर उसके संग रहने आ गया। सोनिया ने चालाकी से उसके धन से छह बिस्वा जमीन अपने नाम खरीदवायी। शातिर इतनी कि अविवाहित दर्शाते हुए पति के बदले पिता नाम लिखवा दिया।

बेटे को वापस करने के एवज में करायी हत्या

सुधीर से विवाह के बाद सोनिया ने एक पुत्री को जन्म दिया जो ननिहाल में मां के संग रहती है। बाद में सुधीर को संविदा पर फतेहपुर में नौकरी मिल गयी। उधर सोनिया का सम्पर्क जितेन मौर्या से हो गया। सोनिया ने ड्राइवरी करने वाले जितेन से भी विवाह कर लिया। उससे एक बेटा हुआ। बाद में जितेन को पता चला कि सोनिया के कई लोगों के शारीरिक सम्पर्क हैं तो उसने अपने बेटे को वापस मांगा। इसके एवज में सोनिया ने पहले पति की हत्या की शर्त रखी। एक साथी के संग जितेन ने सुधीर को मौत के घाट उतार दिया। एक दिन तक लाश को बालू में छिपा कर रखा और ठिकाने लगाने जा रहे थे लेकिन पुलिस को देख फेंकर भाग गये।

कोई सुराग नहीं था पुलिस के पास

अज्ञात लाश के मिलने के बाद हत्यारों की गिरफ्तारी का टास्क क्राइम ब्रांच प्रभारी अजय सिंह को सौंपा गया। जिस ईंट से सिर कूंचा गया था उस भट्ठा मालिक से सम्पर्क करने पर शिनाख्त संभव हो सकी। क्राइम ब्रांच ने साक्ष्य संकलन के बाद सोनिया के संग उसके प्रेमी को धर-दबोचा।

admin

No Comments

Leave a Comment