वाराणसी। दूसरी जाति में विवाह करने से परिवार रोकता है तो प्रेमी-प्रेमिका की खुदकुशी के मामले आये दिन प्रकाश में आते हैं। सुंदरपुर (लंका) स्थित सांई अपार्टमेंट में कुछ अलग कहानी सामने आयी। यहां की छठीं मंजिल पर रहने वाले नगर निगम के ठेकेदार अशोक सिंह (55) ने फांसी लगाकर जान दे दी। घटना उस समय हुई जिस समय परिवार बाहर गया ता। गुरुवार को कई बार मोबाइल मिलाने पर कोई उत्तर नहीं मिला तो पत्नी रेनू ने अपने ममेरे भाई को भेजा। कमरे में पंखे में बंधी रस्सी के सहारे फंदे पर अशोक का शव लटक रहा था। मौके पर पहुंची पुलिस ने उनकी जेब से एक सुसाइड नोट मिला जिसमें उन्होंने अपने भाई को मुखाग्नि देने को कहा है। बताया जाता है कि बेटी के लव मैरिज करने के फैसले से अशोक खासे क्षुब्ध थे। इसी के चलते उन्होंने खुदकुशी का निर्णय ले लिया।

बेटी की शादी थी लखनऊ में

मूल रूप से जलालपुर (जौनपुर) के नवेदा गांव निवासी अशोक कुछ सालों से यहां रहते थे। पत्नी सपा नेत्री है जबकि बेटी लखनऊ की एक निजी कंपनी में काम करती है। बेटा देहरादून में फिजियोथेरपी की पढ़ाई कर रहा है। तीन दिन पहले अशोक की पत्नी रेनू लखनऊ में अपनी बेटी के शादी समारोह में शामिल होने चली गई थी। बेटी के फैसले ने नाराज अशोक ने साथ जाने से इनकार कर दिया था। परिवार के दूसरे सदस्य शादी के पक्ष में थे जिससे अशोक अवसादग्रस्त हो गये। फोन न उठने पर घर पहुंचे रिश्तेदार ने दरवाजा खटखटाया लेकिन उत्तर नहीं मिला तो पुलिस को सूचना दी।

admin

No Comments

Leave a Comment