बलिया। संगीन मामलों में पुलिस किस कदर यू टर्न लेती है इसका नमूना रहा सदर कोतवाली क्षेत्र के निराला नगर में महिला कांग्रेस से जुड़ी लीलावती और पूनम की हत्या का मामला। मौके पर पहुंचे डीआईजी विजय भूषण और एसपी अनिल कुमार का दावा था कि किसी तरह की लूट के कोई सुराग नहीं मिले हैं लेकिन 24 घंटे के भीतर नाटकीय ढंग से खुलासा करने में पुलिस ने कहानी बदल दी। अब पुलिस का कहना है कि दोनों महिलाओं की डकैती के दौरान हत्या की गई थी। पुलिस ने इस घटना में शामिल महिला गुड़िया निवासी आवास विकास कालोनी, सलीम निवासी घुरहू नारायण के छपरा व रिजवान निवासी उमरगंज को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से डकैती के दौरान लूटे गए सोना, चांदी व नकदी 58 हजार रुपये बरामद किए गए। इनके दो साथी फरार बताए जा रहे हैं।

शहर में थी सनसनी, फौरन हो गया खुलासा

इस वारदात से पूरे शहर में सनसनी फैल गयी थी। लीलावती अकेले घर में रहती थी और दोनों दत्तक पुत्र बाहर रहते थे। डीआईजी के मौका मुआयने के बाद चर्चा शुरू हो गयी कि जल्द इसका खुलासा हो जायेगा लेकिन इतनी जल्दी यह विभागीय लोगों को भी आभास नहीं था।

admin

No Comments

Leave a Comment