चंदौली। एक साल पहले तक सपा के शासन काल में चहनियां की ब्लाक प्रमुख सुशीला देवी की हनक किसी विधायक से कम नहीं थी। वजह, सकलडीहा मौजूदा विधायक और सपा के वरिष्ठ प्रभुनारायण सिंह यादव ने उन्हें निर्विरोध निर्वाचित कराया था। चुनाव की नौबत तब आती जब कोई पर्चा भरने के लिए राजी होता। तत्कालीन विधायक ने इसके लिए प्रेरित भी किया लेकिन सफलता नहीं मिली। सूबे में निजाम बदलने का असर उन पर दिखने लगा है। फिलहाल कुर्सी खतरे में दिख रही है क्योकि 57 क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने संगीत देवी के नेतृत्व में बगावत का बिगुल बजा दिया है। इन सभी ने डीएम के यहा शपथपत्र देकर अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए जोर देकर कहा है।

काफी समय से चल रही थी सुगबुगाहट

सपा की सरकार में जिन लोगों को प्रमुख की कुर्सी मिली थी उन पर सूबे में निजाम बदलने के साथ ही संकट के बादल मंडराने लगे थे। भाजपा की सरकार बनने के बाद एक के बाद एक ब्लाक प्रमुखों के खिलाफ बगावत के सुर उठने लगे थे लेकिन चहनियां ऐसा किला था जिसमें दरार नहीं दिख रही थी। बाद में ‘उपर से’ शह मिलने पर चहनियां प्रमुख सुशीला देवी के खिलाफ 105 बीडीसी में से 57 क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने हलफनामा देकर डीएम से अविश्वास प्रस्ताव लाने की मांग की है। दूसरी तरफ डीएम ने हलफनामों की जांच के बाद अग्रिम कार्रवाई का भरोसा दिया है।

admin

No Comments

Leave a Comment