बलिया। पूर्वांचल में तीन दिनों तक पीएम का कार्यक्रम होता रहा। सहयोगी दल अपना दल को खासी तवज्जों मिली। बावजूद इसके प्रदेश सरकार में साझेदार सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को भाव नहीं मिला। पिछले काफी समय से पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष और सूबे के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर के सुर सोमवार को कछ बदले दिखे। रसड़ा में मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने जहां एक तरफ भाजपा सरकार में खुद को जोकर बताया है वहीं, जुल्म जाति पर अत्याचार करने वाले अधिकारियों के लिए अपने आप को गब्बर बताया। अलबत्ता उनका कहना था कि भाजपा से उनके दल का गठबंधन अगले लोकसभा चुनाव तक ही नहीं बल्कि 2024 तक रहेगा। कुछ समपर्ण की मुद्रा में कहा कि भाजपा उनके हिस्से में जो सीट देगी, उन सीटों पर सुभासपा चुनाव लड़ेगी। साथ ही आशंका जतायी कि इस सला नवंबर और दिसंबर में होने वाले चार राज्यों के चुनाव के साथ ही लोकसभा के भी चुनाव हो सकते हैं।

वोट की खातिर राहुल बनते हैं ‘जनेऊधारी’

कैबिनेट मंत्री ने आगामी लोकसभा चुनाव हिंदू-मुस्लिम मुद्दे की संंभावना पर लड़े जाने के बाबत पूछे जाने पर कहा कि इस देश के नेता वोट के लिये कुछ भी कर सकते हैं। यहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी गुजरात चुनाव के समय हिंदू साबित करने की खातिर जनेऊ पहन कर मंदिर-मठों में खाक छान रहे थे और अब वह कांग्रेस को मुस्लिम की पार्टी बता रहे हैं। मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सरिया अदालत गठित करने व हलाला को सही ठहराने के फैसले पर कहा कि यह देश संविधान से चलता है। किसी नेता या धर्मगुरू के कहने से कुछ नहीं होगा। उन्होंने कहा कि यदि बोर्ड अवैधानिक कार्य करता है तो सरकार कार्रवाई करेगी। यह बेहद चिंता का विषय है कि धर्म गुरु समाज को लड़ाने व बांटने का कार्य कर रहे हैं।

admin

No Comments

Leave a Comment